विज्ञापन
Home » Economy » InternationalWho is Didi of China, read full story

इस दीदी के पास है 4 लाख करोड़ की दौलत, जानें क्या है इसका बिजनेस 

दीदी के OYO में 700 करोड़ रुपए इन्वेस्ट करने की चर्चा 

1 of

नई दिल्ली। इस दीदी की दुनिया भर में खूब चर्चा होती है। इसकी वजह है, इसका बिजनेस और दौलत। चीन की यह दीदी कोई हाड़ मांस की महिला नहीं है, बल्कि एक कंपनी है। चीन की टैक्सी सर्विस देने वाली इस कंपनी का पूरा नाम Didi Chuxing है। महज 6 साल पहले शुरू हुई इस कंपनी की मार्केट वैल्यू लगभग 4 लाख करोड़ रुपए (56 बिलियन डॉलर) हो गई है। फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक 2019 में इस दीदी की वेल्यू 80 बिलियन डॉलर तक पहुंच सकती है। इस कंपनी की सक्सेस के पीछे एक महिला ही है। हम इस कंपनी और महिला के बारे में बता रहे हैं...

 

क्यों सुर्खियों में है ये चीन की दीदी
- दो दिन से दीदी भारतीय मीडिया में चर्चा में है। इकोनॉमिक टाइम्स की खबर है कि चीन की कंपनी दीदी चुशिंग ने हॉस्पिटैलिटी चेन OYO होटल्स एंड होम्स में 10 करोड़ डॉलर का इन्वेस्टमेंट किया है। इस इन्वेस्टमेंट के लिए ओयो की वैल्यू लगभग 5 अरब डॉलर लगाई गई है। यह इन्वेस्टमेंट दीदी चुशिंग के कंट्रोल वाली स्टार वर्चु इनवेस्टमेंट के जरिए किया गया है। 

 

UBER को दे रही है टक्कर 
-यह ग्‍लोबल मार्केट में अमेरिकी कंपनी उबर को लगातार टक्कर दे रही है। उबर ऐप आधारित दुनिया की सबसे बड़ी टैक्‍सी सर्विस प्रोवाइडर है। फोर्ब्स के मुताबिक, 2016 में दीदी ने उबर का चीन का पूरा बिजनेस 35 बिलियन डॉलर में खरीद लिया था। 

 

कौन है यह दीदी 
 
चेंग वेई चीन की ऐप आधारित टैक्‍सी सर्विस दीदी काउदी के फाउंडर हैं। चेंग ने जून 2012 में दीदी दाचे की नींव रखी थी। इसके बाद फरवरी 2015 में दीदी चाचे और काउदी दाचे का मर्जर हो गया और एक कंपनी बनी दीदी काउदी।


यह है कंपनी की प्रेसिडेंट 
चीन और कई बड़े देशों में दीदी काउदी का सबसे बड़ा कॉम्पिटीशन उबर और ओला है, लेकिन दीदी काउदे की प्रेसिडेंट जेन लऊ ने दो साल में ही कंपनी को नए शिखर तक पहुंचा दिया है। लेनेवो के फाउंडर की बेटी जेन लऊ दीदी चाचे की प्रेसिडेंट हैं। वॉलस्ट्रीट को दिए गए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि हमारा मॉडल सबसे अलग है, क्योंकि जिन लोगों के पास घरों में कार है, हम उन्हें पार्ट टाइम में कमाने का मौका देते हैं। साथ ही, टैक्सी शेयरिंग के जरिए कस्टमर की कॉस्ट भी कम हो जाती है। हमारी कंपनी अपने प्लेटफॉर्म पर सभी तरह के ट्रांसपोर्ट की सुविधा देती है।
 
दीदी से पहले
जेन लऊ ने दीदी काउदे ज्वाइन करने से पहले 12 साल तक गोल्डमैन सैक्स में काम किया है। इसके अलावा कई बड़ी कंपनियों के बोर्ड में भी शामिल रही हैं। कहा जाता है कि उन्हें टेक कंपनी चलाने की कला अपने पिता से मिली है। इनके पिता लेनेवो के फाउंडर है। 
 
 एप्पल ने भी किया बड़ा इन्वेस्टमेंट
 
अमेरिका की प्रमुख टेक्नोलॉजी कंपनी एप्पल ने चीन की  दीदी चुक्सिंग में एक अरब डॉलर का निवेश किया है। इसकी जानकारी खुद दीदी ने दी है। सरकारी अखबार चाइना डेली की खबर के मुताबिक, इस निवेश को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। गौरतलब है कि दीदी अमेरिकी ऐप आधारित टैक्सी सेवा उबर की कॉम्पिटीटर है।
 
दीदी के मुख्य कार्यकारी और संस्थापक चेंग वेई ने कहा कि एप्‍पल का निवेश हमारी चार साल पुरानी कंपनी के लिए बड़ी सफलता है। दीदी ने कहा कि एप्‍पल ने कंपनी में एक अरब डॉलर का निवेश किया है।
 

Softbank ने किया इन्वेस्टमेंट 
सॉफ्टबैंक ने दीदी काउदी में 60 करोड़ डॉलर का निवेश किया था। मौजूदा समय में सॉफ्ट बैंक के पास दीदी काउदी के 44 फीसदी हिस्सेदारी है। कंपनी के मुताबिक उसके पास चीन के कुल 400 शहरों में 30 करोड़ रजिस्टर्ड ग्राहक हैं। 1.4 करोड़ रजिस्टर्ड ड्राइवर हैं। 
 

ड्राइव करना नहीं जानते हैं दीदी के फाउंडर
 ब्लूमबर्ग को दिए इंटरव्यू में चेंग ने कहा है कि अलीबाबा को छोड़कर उन्होंने अपनी ई-कॉमर्स कंपनी शुरू करने की सोची और नए आइडिया के साथ मार्केट में उतरे। हालांकि, उन्हें कार ड्राइव करनी नहीं आती है।
 
दीदी की शुरुआत से पहले 
 चेंग ने दीदी की शुरुआत करने से पहले 8 साल अलीबाबा में नौकरी की। अपनी जॉब के दौरान अलीबाबा में वह यंगस्ट जनरल मैनेजर रहे है। 
 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन