Home » Economy » InternationalZuckerberg says Facebook enhancing security features ahead polls in india

भारत में चुनाव से पहले फेसबुक मजबूत करेगी सिक्युरिटी फीचर्सः मार्क जुकरबर्ग

फेसबुक को लेकर भारत के राजनीतिक हल्कों में उठे तूफान के बाद उसके फाउंडर मार्क जुकरबर्ग खुद सफाई देने के लिए आए हैं।

1 of

 

वाशिंगटन. फेसबुक को लेकर भारत के राजनीतिक हल्कों में उठे तूफान के बाद उसके फाउंडर मार्क जुकरबर्ग खुद सफाई देने के लिए आए हैं। उन्होंने कहा कि भारत जैसे देशों में आगामी चुनाव के दौरान सत्यनिष्ठा सुनिश्चित करने के लिए फेसबुक के सिक्युरिटी फीचर्स बढ़ाए जा रहे हैं। इन दिनों फेसबुक अमेरिका में राष्ट्रपति पद के चुुनाव के दौरान डोनाल्ड ट्रम्प के कैंपेन से जुड़ी ब्रिटिश कंपनी द्वारा डाटा ब्रीच स्कैंडल को लेकर हुए विवाद से जूझ रही है।

 

भारत में चुनाव से पहले सब होगा ठीक

जुकरबर्ग ने न्यूयॉर्क टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में कहा, ‘अब हमारा फोकस न सिर्फ 2018 के अमेरिकी चुनाव, बल्कि भारत और ब्राजील के चुनाव से पहले खुद को दुरुस्त करने पर है। इसके साथ ही इस साल होने वाले अन्य चुनाव भी हमारे लिए अहम हैं।’

एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि रूस जैसे देशों के लिए चुनाव में दखल देना मुश्किल बनाने के लिए फेसबुक को खासा काम करने की जरूरत है, जिससे फर्जी खबरों को फैलाया न जा सके।

 

फेक अकाउंट्स का पता लगाने को लागू किया था यह टूल

जुकरबर्ग ने खबरों में हेराफेरी और चुनावों को प्रभावित करने की कोशिश करने वाले फेक अकाउंट का पता लगाने के वास्ते फेसबुक द्वारा लागू किए गए आर्टीफिशियल (एआई) टूल्स का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि यह टूल पहली बार 2017 में फ्रांस में हुए चुनावों के दौरान लागू किया गया था।


अमेरिकी चुनाव के बाद बनाया था यह टूल

उन्होंने कहा, ‘नए एआई टूल्स को 2016 में अमेरिका में हुए चुनाव के बाद बनाया गया था। मुझे लगता है कि हमें रूसी सोर्सेज से जुड़े 30 हजार से ज्यादा फेक अकाउंट्स मिले थे, जो उसी तरह की तिकड़में अपना रहे थे जो उन्होंने 2016 में अमेरिका में हुए चुनाव में की थीं। हम उन्हें निष्क्रिय करने में कामयाब रहे और फ्रांस में ऐसा व्यापक स्तर पर होने से रोक दिया था।’


फर्जी अकाउंट्स पर रोक लगाने में रहे कामयाब

जुकरबर्ग ने कहा, ‘बीते साल 2017 में अलबामा नें विशेष चुनाव के साथ हमने फेक अकाउंट्स और फर्जी न्यूज का पता लगाने के लिए कुछ नए एआई टूल्स लागू कर दिए थे। हमने बड़ी संख्या में मैकडोनियन में मौजूद अकाउंट पाए, जो बड़ी संख्या में फर्जी खबरें फैलाने की कोशिश कर रहे थे। हम इन पर रोक लगाने में कामयाब रहे।’


मौजूदा सिस्टम है बेहतर

ऐसा पहली बार है, जब जुकरबर्ग ने पहली बार सार्वजनिक तौर पर फेसबुक पर चुनावों का प्रभावित करने के आरोपों पर चर्चा की। उन्होंने कहा, ‘मौजूदा सिस्टम को मैं खासा बेहतर मानता हूं। वहीं मुझे लगता है कि रूस और अन्य देशों की सरकारें ज्यादा परिष्कृत हो रही हैं। इसलिए हमें सुनिश्चित करने की जरूरत है कि हम सबसे आगे रहें।’

 

 

 

फेसबुक को मोजिला ने दिया झटका 

 

 

डाटा लीक मामले में दुनियाभर में आलोचना झेल रही सोशल मीडिया साइट फेसबुक को इंटरनेट कंपनी मोजिला कॉर्प ने बड़ा झटका दिया है। मोजिला कॉर्प की ओर से बुधवार को कहा गया कि डाटा प्राइवेसी की चिंताओं को ध्‍यान में रखकर फेसबुक इंक के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से विज्ञापन निलंबित कर दिया है। कंपनी ने यह फैसला फेसबुक पर डाटा लीक के आरोपों के बाद लिया है।  मोजिला की ओर से कहा गया , हमें पता चला है कि इसकी (फेसबुक) की वर्तमान डिफ़ॉल्ट सेटिंग्स से बहुत सारा डेटा लीक हो जाती है और थर्ड पार्टी ऐप तक पहुंच जाती है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट