विज्ञापन
Home » Economy » InternationalSaudi Arabia appoints first female ambassador to the US

मर्डर में फंसे क्राउन प्रिंस, तो सऊदी अरब ने US में तैनात की राजकुमारी

प्रिंसेस को मिली अमेरिका से रिलेशन मजबूत बनाने की जिम्मेदारी

1 of

इस्तांबुल. क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Mohammed bin Salman) का वाशिंगटन पोस्ट के एक पत्रकार के मर्डर में हाथ होने के आरोपों के बीच सऊदी अरब ने अमेरिका के साथ रिलेशन को मजबूती देने के लिए एक बड़ा फैसला किया है। सऊदी अरब ने पहली बार अमेरिका में एक महिला को एम्बेसडर नियुक्त किया है। वह महिला कोई और नहीं बल्कि सऊदी किंगडम की प्रिंसेस रीमा बिन्त बंडार अल सॉद (Reema bint Bandar Al Saud) हैं। 

सऊदी की उभरती हुई पॉलिटिकल स्टार हैं प्रिंसेस रीमा

सऊदी रॉय फैमिली की सदस्य प्रिंसेस सऊदी किंगडम में महिलाओं के अधिकारों की वकालत करती रही हैं और उन्हें देश में एक उभरते हुए पॉलिटिकल स्टार के तौर पर देखा जा रहा है। वह क्राउन प्रिंस सलमान (Mohammed bin Salman) के छोटे भाई प्रिंस खालिद बिन सलमान अब्दुलअजीज (Khalid bin Salman bin Abdulaziz) की जगह लेंगी।

 

यह भी पढ़ें- मोदी सरकार का अरब देशों को बड़ा झटका, अब अमेरिका से खरीदेगा करोड़ों का तेल

 

20 साल अमेरिका में रही हैं प्रिंसेस

प्रिंसेस के करीबी सूत्रों के मुताबिक, प्रिंसेस रीमा 1975 से 2005 के बीच वाशिंगटन में रही हैं जब उनके पिता बंडार बिन सुल्तान अल सॉद अमेरिका में एम्बेसडर थे। इस दौरान उन्होंने अमेरिका की जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी में पढ़ाई भी की। प्रिंसेस रीमा के दो किशोर उम्र के बच्चे हैं।

 

 

 

अमेरिका के साथ संबंधों को बनाएंगी मजबूत

सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, प्रिंसेस रीमा की तैनाती इसलिए भी खासी अहम मानी जा रही है क्योंकि कुछ महीने पहले ही वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमा खाशोगी (Jamal Khashoggi) के मर्डर को लेकर सऊदी रॉयल फैमिली खासे विवादों में है। तुर्की के सऊदी दूतावास में हुए मर्डर के कारण रॉयल फैमिली को अमेरिका में भी खासी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

 
तुर्की में सऊदी दूतावास में हुई खाशोगी की हत्या

खाशोगी के गायब होने के बाद सऊदी अधिकारियों ने किसी तरह की लिप्तता से इनकार किया था। लेकिन अमेरिकी जांच एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक, क्राउन प्रिंस के आदेश के बाद ही खाशोगी की हत्या की गई थी। हालांकि सऊदी अरब ने माना था कि खाशोगी की हत्या उसके तुर्की स्थित दूतावास के अंदर ही हुई थी। दिसंबर में यूएस सीनेट ने एक रिजॉल्यूशन पास करके क्राउन प्रिंस सलमान की आलोचना भी की थी।

 

 
महिलाओं के हित में काम करती रही हैं प्रिंसेस

प्रिंसेस रीमा वर्तमान में सऊदी जनरल स्पोर्ट्स अथॉरिटी के साथ काम करती हैं और उन्होंने खेलों में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ावा देने की दिशा में भी खासा काम किया है। उन्होंने स्कूलों में लड़कियों को फिजिकल एजुकेशन सुनिश्चित करने की दिशा में शिक्षा मंत्रालय के साथ काम किया है। प्राइवेट सेक्टर की बात करें को हार्वे निकोलस रियाद में सीईओ भी रही हैं। सऊदी प्रिंसेस देश में सुधारों को बढ़ावा देने के लिए क्राउन प्रिंस की तारीफ भी करती रही हैं। उन्होंने वर्ष 2018 में महिलाओं की ड्राइविंग से बैन हटाने के लिए सऊदी सरकार की तारीफ की थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss