पाकिस्तान के हाथ लगने वाला है ऐसा खजाना, खत्म हो जाएगी कंगाली

पाकिस्तान को जल्द ही अरब सागर (Arabian Sea) में तेल और गैस का इतना बड़ा भंडार मिलने जा रहा है कि इससे उसकी कंगाली पूरी तरह दूर हो जाएगी। 

moneybhaskar

Mar 22,2019 06:08:00 PM IST

इस्लामाबाद. पाकिस्तान को जल्द ही अरब सागर (Arabian Sea) में तेल और गैस का इतना बड़ा भंडार मिलने जा रहा है कि इससे उसकी कंगाली पूरी तरह दूर हो जाएगी। यह जानकारी देते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने कहा कि इस ‘जैकपॉट’ से नकदी की तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान की आर्थिक समस्याएं पूरी तरह दूर हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि तेल के लिए ऑफशोर ड्रिलिंग अंतिम चरण में है और यह एक बड़ी खोज साबित हो सकती है।

यह भी पढ़ें-F-16 के आगे कहीं नहीं टिकता भारत का MiG-21, फिर भी तोड़ा पाकिस्तान का गुरूर

इमरान को उम्मीद, दूर हो जाएगी कंगाली

इमरान खान ने कहा, ‘मैं अनुरोध करता हूं कि हम सभी पाकिस्तान को बड़ी मात्रा में नैचुरल रिसोर्स मिलने के लिए दुआ करें। एक्जॉनमोबाइल (ExxonMobil) की अगुआई वाले कंसोर्टियम द्वारा की जा रही ड्रिलिंग से हमारी उम्मीदें और अनुमान सही साबित हों।’
उन्होंने कहा, ‘इसमें पहले ही तीन हफ्तों की देरी हो चुकी है, लेकिन यदि कंपनियों से मिल रहे संकेतों पर गौर करें तो हमारे पानी में बड़े भंडार मिलने की पूरी संभावना है। अगर ऐसा होता है तो पाकिस्तान एक खास स्थिति में पहुंच जाएगा।’

यह भी पढ़ें-अरब देश ने दिया झटका, तो ईरान ने मोदी सरकार को कराई मोटी कमाई

अरब सागर में गहरे समुद्र में चल रही है खोज

हालांकि न्यूजपेपर एडिटर्स और अन्य वरिष्ठ पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बातचीत में इमरान खान ने ऑफशोर ड्रिलिंग प्रोसेस की डिटेल साझा नहीं की। एक्जॉनमोबाइल (ExxonMobil) और अंतरराष्ट्रीय ऑयल एक्सप्लोरेशन कंपनी ईएनआई की तरफ से भी आधिकारिक तौर पर कुछ भी नहीं कहा गया है, जो जनवरी से गहरे समुद्र (समुद्र से 230 किलोमीटर अंदर) में तेल के लिए ड्रिलिंग का काम कर रही हैं। इस क्षेत्र को केकरा-1 (Kekra-1) के नाम से जाना जाता है।

 

आतंकी हिंसाः कई कंपनियों ने एक दशक पहले छोड़ा था इलाका

इटली की ईएनआई और अमेरिकी तेल कंपनी एक्जॉजनमोबाइल (Exxon Mobil) मिलकर पाकिस्तान के अरब सागर में गैस ऑफशोर के लिए ड्रिलिंग कर रही हैं। कई अन्य पश्चिमी कंपनियां आतंकवादी हिंसा के चलते एक दशक पहले ही इस क्षेत्र को छोड़कर चली गई थीं। एक्जॉनमोबाइल (Exxon Mobil) लगभग एक दशक बाद बीते साल हुए सर्वे के क्रम में वापस लौटी थी।

 

 
कई देशों से आर्थिक मदद लेने को हुआ मजबूर

प्रधानमंत्री को लगता है कि इस तेल के भंडार से पाकिस्तान की ज्यादातर आर्थिक दिक्कतें दूर हो जाएंगी। गौरतलब है कि पाकिस्तान बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहा है और उसे सऊदी अरब, यूएई और चीन जैसे अपने मित्र देशों से आर्थिक मदद व कर्ज के तौर पर पैसा लेना पड़ रहा है।

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.