Home » Economy » InternationalIf ED, CBI object proposal to sell assets, it'd show agenda beyond dues recovery: Mallya

एसेट बेचकर कर्ज चुकाने को तैयार, लेकिन ‘राजनीति’ हुई तो कुछ नहीं कर सकताः माल्या

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या बुधवार को कहा कि अगर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई कर्ज चुकाने के लिए 13,900 करोड़

If ED, CBI object proposal to sell assets, it'd show agenda beyond dues recovery: Mallya

 

नई दिल्ली. भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या बुधवार को कहा कि अगर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई कर्ज चुकाने के लिए 13,900 करोड़ रुपए की एसेट बेचने के उनके प्रस्ताव का विरोध करती हैं तो इससे जाहिर होगा कि वे उनसे कर्ज की वसूली के बजाय किसी अन्य एजेंडे पर काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि वह कर्ज चुकाने के लिए तैयार हैं, लेकिन राजनीतिक फैक्टर काम करें तो कुछ नहीं किया जा सकता।

गौरतलब है कि माल्या ने कर्नाटक हाई कोर्ट में एप्लीकेशन फाइल करके एसेट बेचने की अनुमति मांगी है।   अरबपति कारोबारी माल्या ने उसे बैंक डिफॉल्ट का ‘पोस्टर ब्वॉय’ बनाने के दावे के एक बाद कई ट्वीट जारी करके कहा कि बैंकों के बकाए चुकाने के लिए उनकी तरह से हर संभव कोशिश हो रही है।

 

 

माल्या ने दो साल पहले के लेटर किए पब्लिक

भगोड़े शराब व्‍यवसायी विजय माल्‍या ने मंगलवार को ही बैंक डिफॉल्‍ट मामले में दो साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्‍त मंत्री अरुण जेटली को लिखे लेटर्स सार्वजनिक कर दिए थे। माल्‍या ने कहा था कि उन्‍होंने 15 अप्रैल 2016 को ये लेटर अपना पक्ष रखने के लिए लिखे थे, लेकिन पीएम और वित्‍त मंत्री किसी की ओर से कोई जवाब नहीं आया था। माल्‍या ने यह भी कहा है कि वह बैंक डिफॉल्‍ट के पोस्‍टर बॉय बन चुके हैं। उन्‍हें लोगों का गुस्‍सा भड़काने के तौर पर इस्‍तेमाल किया जाने लगा है।

 

 

कोर्ट की निगरानी में एसेट बेचने की मांगी अनुमति

उन्होंने ट्वीट किया, ‘हमने कोर्ट से न्यायिक निगरानी में अपनी एसेट्स बेचने और कर्ज चुकाने की अनुमति मांगी है। ऐसा कोर्ट के निर्देश और फैसले के आधार पर किया जाएगा।’ माल्या के लेनदारों में सरकारी बैंक भी शामिल हैं।

 

 

ईडी-सीबीआई ने किया विरोध तो समझो कुछ और है उनका एजेंडा

माल्या ने कहा, ‘यदि ईडी या सीबीआई जैसी जांच एजेंसियां एसेट्स की बिक्री का विरोध करती हैं तो इससे साबित हो जाएगा कि कर्ज की वसूली के बजाय मुझे पोस्टर ब्वॉय बनाने के एजेंडे पर काम हो रहा है।’

उन्होंने दावा किया कि वह ‘अच्छी नीयत से बैंकों के साथ सेटलमेंट’ की कोशिशें करते रहेंगे। उन्होंने कहा, ‘यदि राजनीति से प्रेरित फैक्टर्स का असर दिखता है तो मैं कुछ नहीं कर सकता हूं।’

उठाए गए सवालों की टाइमिंग पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा हाईकोर्ट में फाइल की गई एप्लीकेशन की वजह किया गया है।

कल, 9 हजार करोड़ रुपए के किंगफिशर एयरलाइन्स लोन डिफॉल्ट केस से संबंधित विवाद पर उन्होंने खुद के विलफुल डिफॉल्टर होने की बात से इनकार किया।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट