बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalब्रिटेन में 10 हजारCr का मुकदमा हारे माल्या, कोर्ट का भारतीय बैंकों के पक्ष में फैसला

ब्रिटेन में 10 हजारCr का मुकदमा हारे माल्या, कोर्ट का भारतीय बैंकों के पक्ष में फैसला

भारत में भगोड़ा घोषित और बैंकों के हजारों करोड़ रुपए के डिफॉल्टर विजय माल्या को बड़ा झटका लगा है।

1 of

 

 

लंदन. भारत में भगोड़ा घोषित और बैंकों के हजारों करोड़ रुपए के डिफॉल्टर विजय माल्या को लंदन में बड़ा झटका लगा है। मंगलवार को लंदन की कोर्ट ने भारतीय बैंकों की तरफ से 1.55 अरब डॉलर (10 हजार करोड़ रुपए) से ज्यादा रकम कलेक्ट करने के लिए दायर यूके लासूट में माल्या के खिलाफ फैसला दिया है।

 

 

भारतीय कोर्ट के आदेश हो सकते हैं लागू

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, जज एंड्र्यू हेनशॉ ने कहा कि आईडीबीआई बैंक सहित सभी लेंडर्स भारतीय कोर्ट द्वारा दिए गए आदेश को लागू कर सकते हैं, जो माल्या पर उनकी दिवालिया किंगफिशर एयरलाइंस के 1.4 अरब डॉलर कर्ज का जानबूझकर डिफॉल्ट करने के आरोपों से संबंधित था। हेनशॉ ने माल्या की दुनिया भर में स्थित एसेट जब्त करने के आदेश को पलटने से भी इनकार कर दिया।

 

 

कई लॉसूट्स का सामना कर रहे हैं माल्या

माल्या को ब्रिटेन और भारत में फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों को लेकर कई लॉसूट्स का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें लगभग एक साल पहले लंदन में अरेस्ट किया गया था। इसके साथ ही माल्या को एक अन्य कोर्ट में प्रत्यर्पण के केस का भी सामना करना पड़ रहा है।

इस फैसले के बाद माल्या के वकीलों ने कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। हेनशॉ ने मंगलवार के फैसले के खिलाफ अपील करने की मंजूरी देने से भी इनकार कर दिया, जिसका मतलब है कि उनके वकीलों को कोर्ट ऑफ अपील में पिटीशन दायर करनी पड़ेगी।

 

 

डेट रिकवरी ट्रिब्यूनल का आदेश लागू होने का रास्ता साफ

लेंडर्स की तरफ से मामले की पैरवी कर रही लंदन की लॉ फर्म टीएलटी के वकीलों ने कहा कि इस फैसले से भारतीय डेट रिकवरी ट्रिब्यूनल द्वारा दिए गए फैसले को लागू करने का रास्ता साफ हो जाएगा।

लेंडर्स के वकीलों ने सुनवाई के बाद कहा कि एसेट फ्रीज के आदेश से माल्या प्रति सप्ताह 5,000 पाउंड पर गुजर-बसर करने को मजबूर हो गए थे, हालांकि इसी साल एक सप्ताह पहले उनका बढ़ाकर प्रति सप्ताह 20,000 पाउंड कर दिया गया था।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट