बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalजॉनसन बेबी पाउडर से हुआ कैंसर, अब कंपनी अमेरिका में 22 महिलाओं को देगी 32 हजार Cr. का हर्जाना

जॉनसन बेबी पाउडर से हुआ कैंसर, अब कंपनी अमेरिका में 22 महिलाओं को देगी 32 हजार Cr. का हर्जाना

Johnson & Johnson पर चल रहे लगभग 9,000 मामलों में यह जुर्माने की सबसे बड़ी कार्रवाई है।

1 of

 

वाशिंगटन. Johnson & Johnson को अमेरिका में तगड़ा झटका लगा है। अमेरिका में एक ज्यूरी ने कंपनी को 22 महिलाओं और उनके परिवारों को 4.69 अरब डॉलर (32 हजार करोड़ रुपए) हर्जाना देने का आदेश दिया है। दरअसल इन महिलाओं ने दावा किया था कि कंपनी के टैलकम पाउडर प्रोडक्ट्स के चलते उन्हें ओवेरियन कैंसर जैसी बीमारी हो गई। गौरतलब है कि कंपनी के कई प्रोडक्ट्स भारत में भी खासे लोकप्रिय हैं। अभी तक के इस तरह के लगभग 9,000 मामलों में जॉनसन एंड जॉनसन पर यह सबसे बड़ी जुर्माने की कार्रवाई है।

 

 

आदेश के खिलाफ अपील करेगी कंपनी

इस संबंध में भेजे गए ईमेल के जवाब में कंपनी की स्पोक्सवुमैन कैरोल गुडरिच ने कहा कि इस आदेश के खिलाफ अपील की जाएगी। उन्होंने कहा, ‘इस केस का प्रोसेस पूरी तरह गलत था, जिसमें वादियों को 22 महिलाओं के ग्रुप को पेश करने की अनुमति दे दी गई। इनमें से अधिकांश महिलाएं मिसौरी की हैं। एक ही केस में सभी महिलाएं ओवेरियन कैंसर होने का आरोप लगा रही थीं।’

इस केस में हर वादी और उनके परिवार के सदस्यों को 2.5 करोड़ रुपए हर्जाना देना का आदेश दिया गया है।

 
 

6 महिलाओं की हो चुकी है मृत्यु

याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया कि बेबी प्रोडक्ट कंपनी के टैलकम पाउडर में एसबेस्टोस पाया गया, जिससे 1970 के दशक में उन्हेें ओवेरियन कैंसर हो गया। ऐसे ही मामलों में 6 महिलाओं की मृत्यु भी हो चुकी है। जॉनसन एंड जॉनसन ने दलील दी कि उसके टैल्क प्रोडक्ट्स में एस्बेस्टोस नहीं होता है या वह कैंसर की वजह नहीं है। कंपनी ने कहा कि वह कोर्ट के फैसले के खिलाफ कोर्ट में अपील करेगी।

 

आगे भी पढ़ें

 

 

तीन मुकदमों में लग चुका है 715 करोड़ का हर्जाना

इससे पहले वर्ष 2017 में अमेरि‍का की एक अदालत ने बेबी प्रोडक्‍ट्स बनाने वाली नामी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन को 11 करोड़ डॉलर यानी करीब 715 करोड़ रुपए का हर्जाना भरने का आदेश दि‍या था। यह महिला इस कंपनी का पाउडर रेगुलर इस्‍तेमाल करती थी। इससे पहले तीन मुकदमों का नि‍पटारा करते हुए कंपनी को कुल 19.5 करोड़ डॉलर का हर्जाना देने का आदेश दि‍या गया था। कंपनी पर हजारों केस दायर हो गए हैं।

 

आगे भी पढ़ें

 

पहले भी हुए हैं ऐसे मामले

इससे पहले फरवरी 2016 में भी अमेरि‍का की एक अदालत ने इस कंपनी को 7.2 करोड़ डॉलर का हर्जाना उस महि‍ला के परि‍वार को देने को कहा था, जि‍सकी मौत ओवरि‍यन कैंसर की वजह से हो गई थी। मई 2016 में भी यहां की एक अदालत ने कंपनी को एक महि‍ला को 5.5 करोड़ डॉलर हर्जाने के रूप में देने का ओदश दि‍या था। इस महि‍ला का भी दावा था कि पाउडर लगाने की वजह से उसे ओवरि‍यन कैंसर हो गया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट