Home » Economy » International'India sees 20% rise in $ millionaires, despite GST impact'

2017 में 21% बढ़ी भारत के अमीरों की दौलत, GST का नहीं हुआ ज्यादा नुकसान

जीएसटी लागू होने के निगेटिव असर के बावजूद 2017 में भारत में करोड़पतियों की संख्या बढ़ी है।

'India sees 20% rise in $ millionaires, despite GST impact'

 

मुंबई. गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (जीएसटी) लागू होने के निगेटिव असर के बावजूद 2017 में भारत में करोड़पतियों की संख्या और उनकी वेल्थ में 20 फीसदी का इजाफा दर्ज किया गया है। इसके सात ही भारत सबसे तेजी से उभरता हुआ मार्केट भी बना हुआ है। फ्रांस की टेक कंपनी कैपजेमिनी एक रिपोर्ट में ये बातें सामने आई हैं।  

 

 

21 फीसदी बढ़ी अमीरों की दौलत

वेल्थ के डिस्ट्रीब्यूशन में असमानता को लेकर बढ़ती सामाजिक चिंताओं के बीच आई इस रिपोर्ट के मुताबिक, अमीरों (हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल्स या एचएनआई) की संख्या में 20.4 फीसदी का इजाफा हुआ है, वहीं उनकी कुल वेल्थ 21 फीसदी बढ़कर 1 लाख करोड़ डॉलर हो गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, ‘वैश्विक स्तर पर भारत सबसे तेजी से विकसित होता मार्केट बना हुआ है।’ कैपजेमिनी ने कहा कि एचएनआई की संख्या और वेल्थ दोनों के मामले में भारत की ग्रोथ क्रमशः 11.2 फीसदी और 12 फीसदी के ग्लोबल एवरेज से ज्यादा रही है।

 

 

ज्यादा अमीरों वाले देशों में शामिल हुआ भारत

अमेरिका, जापान, जर्मनी और चीन दुनिया में सबसे ज्यादा अमीरों वाले मार्केट हैं। 2017 में इस कतार में 11वीं रैंक के साथ भारत भी शामिल हो गया। रिपोर्ट में एचएनआई का वर्णन ऐसे शख्स के रूप में किया गया है, जिसकी इन्वेस्टेबल एसेट 10 लाख डॉलर (यानी 6.7 करोड़ रुपए) से ज्यादा है।

 

 

मार्केट कैप बढ़ने का मिला फायदा

ग्रोथ की वजहों में से एक साल के दौरान मार्केट कैपिटलाइजेशन में 50 फीसदी की बढ़ोत्तरी अहम वजह रही है। वहीं रियल्टी की कीमतें औसतन 4.8 फीसदी और जीडीपी ग्रोथ 6.7 फीसदी रही, जो दुनिया की तुलना में ज्यादा रही है।

 

 

जीएसटी के असर को किया खारिज

हालांकि, जुलाई में जीएसटी के लागू होने का वेल्थ पर निगेटिव असर पड़ा, लेकिन रिपोर्ट में इसे ‘ट्रांजिटरी’ या अल्पकालिक बताया गया। रिपोर्ट के मुताबिक, दूसरे फैक्टर्स में मॉनिटरी पॉलिसी में स्थिरता, डिमोनेटाइजेशन का असर कम होना और ऊंची सेविंग रेट रही, जिससे वेल्थ क्रिएट करने में मदद मिली।

गौरतलब है कि जनवरी में एक ऐसी स्टडी आई थी जिसमें कहा गया था कि साल के दौरान कमाई गई कुल वेल्थ का 73 फीसदी हिस्सा देश की 1 फीसदी आबादी की झोली में आया। ऑक्सफैम की एक रिपोर्ट के मुताबिक कुल आबादी में से 67 करोड़ लोगों की वेल्थ में महज 1 फीसदी का इजाफा हुआ।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट