बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalचीन ने भारत के MBAs का उड़ाया मजाक, कहा- नहीं हैं किसी काम के

चीन ने भारत के MBAs का उड़ाया मजाक, कहा- नहीं हैं किसी काम के

चीन ने एमबीए टैलेंट के दम पर भारत की ग्रोथ के दावे करने वाले जानकारों पर सवाल उठाए हैं।

1 of

नई दिल्ली. चीन ने एमबीए की फौज के दम पर भारत की ग्रोथ के दावे करने वाले जानकारों पर सवाल उठाए हैं। इस क्रम में उसने इंडियन बिजनेस ग्रैजुएट्स् यानी एमबीए करने वालों का मजाक भी उड़ाया है। चीन ने कहा कि भारत के ग्रैजुएट अगर चीन की तरह अपनी मल्टीनेशनल कंपनी नहीं खड़ी कर सकते, तो वे किसी काम के नहीं हैं।

 

भारत में एमबीए ग्रैजुएट्स की बड़ी फौज

चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने अपनी वेबसाइट पर लिखा कि हाल के दशकों में एमबीए कोर्स भारत में खासा लोकप्रिय बना हुआ है, जिसके चलते भारत में बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई करने वालों की बड़ी फौज तैयार हो गई है। भले ही हाल में आई मीडिया रिपोर्ट्स कहती हैं कि भारत में अधिकांश एमबीए ग्रैजुएट्स जॉब भी हासिल नहीं कर सकते, लेकिन यह टैलेंट अभी भी देश की ग्रोथ संभावनाओं के लिहाज से अहम बना हुआ है।

 

 

भारत के लिए इंडियन टैलेंट को वापस लाना जरूरी

ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, ज्यादातर भारतीय एमबीए ग्रैजुएट्स घरेलू कंपनियों के लिए काम नहीं करते, इसके बजाय वे मल्टीनेशनल कंपनियों (एमएनसी) के लिए काम करते हैं। चीनी मीडिया ने कहा, 'इनमें से कई खासे शिक्षित भारतीय हैं जो सिलिकन वैली में बड़े पदों पर हैं और भारत के लिए इंडियन टैलेंट को वापस लाना जरूरी हो गया है। यह वास्तव में परेशान करने वाला है कि इतने आला दर्जे टेक्निकल और मैनेजमेंट स्टाफ विदेशी कंपनियों के लिए काम कर रहा है व फायदा पहुंचा रहा है।'

 

 

ग्रोथ के लिए भारत का एमबीए टैलेंट किसी काम का नहीं

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा, 'भारत की भारतीय मीडिया की कई रिपोर्ट्स में दावा किया गया कि भारत जल्द ही जीडीपी ग्रोथ के मामले में चीन को पछाड़कर सबसे तेजी से डेवलप होने वाली इकोनॉमी बन जाएगा। कुछ रिपोर्ट्स कहती हैं कि भारत, चीन की बराबरी करने और आर्थिक तौर पर चीन को पीछे छोड़ने की राह पर है। इन रिपोर्ट्स में इस बात का उल्लेख नहीं जाता कि भारत ऐसा कैसे करेगा, लेकिन इस मामले में विदेशी कंपनियों में काम कर रहे एमबीए टैलेंट से भारत को कोई मदद नहीं मिल सकती।'

 

 

भारत के पास होनी चाहिए अपनी एमएनसी

चीनी मीडिया ने कहा, 'इकोनॉमिक ग्रोथ को रफ्तार देने के लिए भारत को ऊंची क्वालिटी की कंपनियों की जरूरत है और उसके पास अपनी एमएनसी होनी चाहिए। इसके लिए भारत को एंटरप्रेन्योरशिप के लिए ज्यादा खुले माहौल की जरूरत है।'

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट