Advertisement
Home » Economy » InternationalChina's economy slumps to 28 year low to 6.6 per cent in 2018

चीन को 28 साल में सबसे बड़ा झटका, भारत निकल सकता है ड्रैगन से आगे 

2018 में 6.6 फीसदी रही चीन की इकोनॉमिक ग्रोथ, 28 साल में सबसे कम

1 of


बीजिंग. चीन (China) को 28 साल का सबसे बड़ा झटका लगा है। वर्ष 2018 में दुनिया की दूसरी बड़ी इकोनॉमी चीन की इकोनॉमिक ग्रोथ 6.6 फीसदी रही, जो बीते 28 साल में सबसे कम रही। माना जा रहा है अमेरिका के साथ चल रही ट्रेड वार (Trade War) और एक्सपोर्ट में गिरावट से चीन को बड़ा नुकसान हुआ है। ऐसे में भारत के ग्रोथ के मामले में ड्रैगन से आगे निकलने की संभावनाएं काफी हद तक बढ़ गई हैं।

 

चीन से ज्यादा रह सकती है भारत की ग्रोथ

फेडरेशन ऑफ इंडियन चेंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (Ficci) के अध्यक्ष और एचएसआईएल के सीएमडी संदीप सोमानी ने कहा कि चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की ग्रोथ रेट 7.3 फीसदी रहने का अनुमान है, जो अगले वित्त वर्ष यानी 2019-20 में 7.5-7.6 फीसदी तक जा सकती है। अगर ऐसा होता है तो भारत की ग्रोथ रेट चीन से ज्यादा ही रहेगी।

 

दिसंबर तिमाही में 6.4 फीसदी रही चीन की ग्रोथ

दिसंबर, 2018 में समाप्त तिमाही के दौरान चीन की इकोनॉमिक ग्रोथ 6.4 फीसदी रही, जबकि पिछली तिमाही में ग्रोथ 6.5 फीसदी रही थी। भले ही चीन की ग्रोथ उम्मीद के अनुरूप रही है, लेकिन इससे चीन की इकोनॉमिक ग्रोथ में कमजोरी को लेकर चिंताएं भी सामने आ गई हैं।
चीन के नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स (एनबीएस) ने सोमवार को ऐलान किया कि चीन की इकोनॉमी वर्ष 2018 में 6.6 फीसदी की दर से आगे बढ़ी। बीते साल यानी वर्ष 2017 में ग्रोथ 6.8 फीसदी रही थी। इससे पहले सबसे कम ग्रोथ वर्ष 1990 में रही थी, जिस साल इकोनॉमी 3.9 फीसदी की रफ्तार से बढ़ी थी।

 

 

टारगेट से ज्यादा रही चीन की ग्रोथ

एनबीएस द्वारा जारी डाटा के मुताबिक, 6.6 फीसदी की ग्रोथ 6.5 फीसदी के टारगेट से ज्यादा रही है। एनबीएस ने कहा कि 2018 की चौथी तिमाही में 6.4 फीसदी की ग्रोथ रही, जो तीसरी तिमाही की 6.5 फीसदी से कम रही।

 

 
ग्लोबल इकोनॉमी को लेकर बढ़ी चिंताएं

चीन की ग्रोथ रेट से ग्लोबल इकोनॉमी पर पड़ने वाले संभावित असर को लेकर चिंताएं बढ़ गई हैं। अमेरिका के साथ चल रही ट्रेड वार के मद्देनजर आउटलुक खासा कमजोर नजर आ रहा है। अमेरिका और चीन वर्ष 2018 की शुरुआत से ही ट्रेड वार से जूझ रहे हैं। दोनों देश एक-दूसरे देशों के गुड्स पर इंपोर्ट टैरिफ बढ़ा रहे हैं।

 

अमेरिका और चीन के बीच चल रही है ट्रेड वार

बीते साल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) ने 250 अरब डॉलर के चीनी सामानों पर टैरिफ 25 फीसदी तक बढ़ा दिया था। चीन ने भी पलटवार करते हुए 110 अरब डॉलर के अमेरिकी गुड्स पर टैरिफ बढ़ा दिया था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement