बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalरुपए में उतार-चढ़ाव भारत के लिए चिंता की बात नहीं, मजबूत है विदेशी मुद्रा भंडारः ADB चीफ

रुपए में उतार-चढ़ाव भारत के लिए चिंता की बात नहीं, मजबूत है विदेशी मुद्रा भंडारः ADB चीफ

रुपए में उतार-चढ़ाव से भारत को चिंतित होने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि देश का विदेशी मुद्रा भंडार अच्छी स्थिति में है।

1 of

मनीला. रुपए में उतार-चढ़ाव से भारत को चिंतित होने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि देश का विदेशी मुद्रा भंडार अच्छी स्थिति में है। हालांकि रुपए में गिरावट से इकोनॉमी पर महंगाई का प्रेशर बढ़ सकता है। एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) के चीफ इकोनॉमिस्ट यासुयुकी सवादा ने शुक्रवार को एक कार्यक्रम के दौरान ये बातें कहीं। 


विदेशी मुद्रा भंडार में कमी के संकेत नहीं

उन्होंने कहा कि एडीबी को तेल की कीमतों में ज्यादा बढ़ोत्तरी की उम्मीद नहीं है, जो हाल में 75 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर पहुंच चुका है। उन्होंने कहा, ‘लंबे समय से विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ता जा रहा है, जिसमें फिलहाल कमी के कोई संकेत नहीं है। इसलिए मैं सोचता हूं कि हमें एक्सचेंज रेट में उतार-चढ़ाव को लेकर ज्यादा चिंतित होने की जरूरत नहीं है।’

 

रुपए की कमजोरी से एक्सपोर्ट को मिलेगा फायदा

सवादा ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘वास्तव में करंसी में कमजोरी अच्छा या बुरी हो सकती है। यह एक्सपोर्ट के लिए अच्छी खबर है, जिसे रुपए में कमजोरी से फायदा हो सकता है। इस कमजोरी का संभावित असर इकोनॉमी पर महंगाई पर दबाव के तौर पर दिखेगा।’

 

4.5 फीसदी कमजोर हुआ रुपया

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस साल भारतीय रुपया इमर्जिंग मार्केट में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली करंसीज में शामिल रहा और यह अमेरिकी डॉलर की तुलना में 4.5 फीसदी कमजोर हो गया। वहीं 6 अप्रैल को समाप्त सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार अपने अभी तक के उच्चतम स्तर 424.864 अरब डॉलर तक पहुंच गया, जिसे फॉरेंस करंसी एसेट्स में बढ़ोत्तरी से मजबूती मिली।  हालांकि सवादा ने कहा कि वह तेल की कीमतों में तेज बढ़ोत्तरी की उम्मीद नहीं करते हैं।


तेल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की संभावना नहीं 

उन्होंने कहा, ‘अगर तेल की कीमतों में तेज बढ़ोत्तरी होती है तो क्या होगा? ऑयल इंपोर्टर्स पर सबसे खराब असर होगा। लेकिन रीजन में रिन्युएबल एनर्जीस को तेजी से अपनाया जा रहा है। मैं तेल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की संभावनाओं को वास्तविक नहीं मानता हूं।’

बीते महीने जारी एशियन डेवलपमेंट आउटलुक में एडीबी ने तेल की कीमतें 2018 में 65 डॉलर प्रति बैरल और 2019 में 62 डॉलर प्रति बैरल रहने का अनुमान जाहिर किया था। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट