बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalअगर आपके मोबाइल या पीसी में लगी है ये चि‍प तो हैकर्स का अगला नि‍शाना हैं आप

अगर आपके मोबाइल या पीसी में लगी है ये चि‍प तो हैकर्स का अगला नि‍शाना हैं आप

दुनि‍याभर के लगभग सभी कंप्‍यूटरों और कई तरह के मोबाइल डि‍वाइस पर हैक होने का खतरा मंडरा रहा है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली. दुनि‍याभर के लगभग सभी कंप्‍यूटरों और कई तरह के मोबाइल डि‍वाइस पर हैक होने का खतरा मंडरा रहा है। गूगल के प्रोजेक्‍ट जीरो के शोधकर्ताओं ने खुलासा कि‍या है कि‍ दुनिया के लगभग सभी कंप्यूटर्स के माइक्रोप्रोसेसर में दो बड़ी खामियां हैं, जिनकी वजह से हैकर्स मोबाइल , पर्सनल कंप्यूटर और सर्वर पर चलने वाले क्लाउड कंप्यूटर नेटवर्क सहित कंप्यूटर्स के पूरे मेमोरी कंटेंट में सेंध लगा सकते हैं।  चिप बनाने वाली दुनि‍या की सबसे बड़ी कंपनी इंटेल के हार्डवेयर में खामी पाई गई है। 


दो कमि‍यां पकड़ी गईं 
इंटेल एडवांस होल्‍डिंग डि‍वाइस और एमआरएम होल्‍डिंग चि‍प में दो तकनीकी खामि‍यां पाई गई हैं। इन दोनों को मेल्टडाउन और स्पेक्ट्रे का नाम दिया गया है। गूगल के शोधकर्ताओं का कहना है कि‍ यह कमी दुनि‍या के करीब 90 फीसदी माइक्रो प्रोसेसर में है, जि‍सपर पूरी दुनि‍या का तकरीबन हर कंप्‍यूटर और फोन चलता है। यानी हैकर चाहें तो आपका सारा डाटा चुरा सकते हैं।  आगे पढ़ें कैसे होगा ठीक 

कैसे होगा ठीक
चि‍प बनाने वाली कंपनी इंटेल का कहना है कि‍ यह इसके लि‍ए एक पैच डाउनलोड करना होगा और ऑपरेटिंग सिस्‍टम को अपडेट करना होगा। कंपनी के सीईओ ब्रायन के मुताबि‍क इससे फोन और कंप्‍यूटर पर कुछ प्रभाव पड़ सकता है। कहा जा रह है कि‍ इसके कारण कंप्यूटर्स 30 पर्सेंट तक स्लो हो सकते हैं जिसके कारण ऑनलाइन सर्विस से फास्ट डाउनलोडिंग में दिक्कतें आ सकती हैं। बुधवार को गूगल और माइक्रोसॉफ्ट ने कहा है कि इस समस्या से निपटने के लिए उन्होंने अपने सिस्टम को अपडेट कर लिया है। 
माइक्रोसॉफ्ट के यूजर्स को इस समस्या से निपटने के लिए कंपनी द्वारा दी गई अपडेट को इन्सटॉल करना होगा। वहीं, दुनियाभर में लाइनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले लगभग 30 पर्सेंट कंप्यूटर्स के लिए कंपनी ने पहले ही एक पैच जारी कर दिया है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट