Home » Economy » Internationalwhy Saudi Arab King Salman halted $100 billion Aramco IPO plan

दुनिया नहीं जान पाए कमाई का राज, इसलिए सऊदी के शेखों ने कुर्बान किए 7 लाख करोड़ रु

सऊदी शाही परिवार ने 100 अरब डॉलर के जिस आईपीओ का रोका था, सामने आए उसके चौंकाने वाले कारण

1 of

रियाद। सऊदी अरब के शाही परिवार की ओर से अपनी कंपनी ऑयल अरामको का IPO एकाएक रोकने के पीछे के कारणों पर छनछन कर कुछ खबरें सामने आने लगी हैं। समाचार एजेंसी रायटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अरामको के फाइनेंशियल स्टेटस को दुनिया से बचाने के लिए सऊदी अरब के किंग सलमान ने अरामको का  IPO  टाल दिया। दरअसल सऊदी अरब सरकार ने अपनी कंपनी अरामको के लिए दुनिया का सबसे बड़ा  IPO  लाने का ऐलान किया था, जिसके माध्यम से उसकी लगभग 100 अरब डॉलर यानी लगभग 7 लाख करोड़ रुपए जुटाने की योजना थी। 

 

शुरुआत में  IPO  टालने की जो खबरें आईं उसमें कहा गया कि अपनी ही एक कंपनी में पैसा लगाने के चक्कर में सऊदी सरकार को यह IPO  टालने के लिए मजबूर होना पड़ गया है। हालांकि सऊदी राजपरिवार से जुड़े सूत्रों ने इससे इनकार कर दिया था। 

 

दुनिया नहीं जान पाए कमाई का राज
अब राजटर्स की ताजा रिपोर्ट में कहा गया है कि सऊदी राजपरिवार नहीं चाहता है कि अरामको की वित्तीय स्थिति की जानकारी दुनिया को पता चले। दरअसल इस आईपीओ के लिए सऊदी अरब के किंग सलमान ने अरामको के पूर्व प्रमुख के साथ शाही परिवार के अन्य प्रमुख सदस्यों की बैठक बुलाई थी। इस बैठक में अरामको से जुड़े कुछ पूर्व अधिकारियों ने किंग को बताया कि आईपीओ लाने के लिए अरामको के पूरी फाइनेंशियल डीटेल को दुनिया के सामने रखना होगा। शाही परिवार इसके लिए तैयार नहीं था। इसी के बाद किंग सलमान ने आईपीओ वापस लेने का फैसला लिया।  रायटर्स ने 3 सूत्रों से बातचीत के आधार पर यह रिपोर्ट प्रकाशित की है।  

 

प्रिंस मुहम्मद का ड्रीम था यह आईपीओ 

बता दें कि अरामको का आईपीओ सऊदी अरब के 32 वर्षीय क्राउम प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान का ड्रीम प्रोजेक्ट था। सऊदी सरकार अपने इस प्लान को लेकर इतनी उत्साहित थी कि उसके सुल्तान, क्राउन प्रिंस और कई मिनिस्टर चीन सहित दुनिया भर के कई देशों की विजिट कर चुके थे। इसके पीछे उनकी दुनिया भर के बड़े इन्वेस्टर्स से फंड जुटाने की योजना थी, लेकिन उनकी यह योजना धरी की धरी रह गई। 

 

आगे पढे़ं- कितनी बड़ी कंपनी है अरामको 

कितनी बड़ी कंपनी है अरामको 
सऊदी अरामको सऊदी अरब की सरकारी पेट्रोलिमय और नैचुरल गैस कंपनी है। रेवेन्यू के लिहाज से दुनिया के टॉप कंपनियों में शुमार है। इसे द़ुनिया के सबसे ज्यादा प्रॉफिट कमाने वाली कंपनी के रूप में भी शुमार किया जाता है। सऊदी अरामको के पास दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा ऑयल रिजर्व है। साथ ही डेली प्रोडक्शन के मामले में भी यह दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी ऑयल कंपनी है। 

 

आगे पढे़ं- ऑयल से कमाई घटाने की थी योजना

 

ऑयल से कमाई घटाने की थी योजना
सऊदी अरामको का आईपीओ सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान देश में शुरू की गई रिफॉर्म की मुहिम का हिस्सा है। इसके माध्यम से सरकार की इकोनॉमी की रीस्ट्रक्चरिंग और ऑयल से होने वाली कमाई पर निर्भरता घटाने की योजना है।

 

आगे पढें- 5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का था प्लान

5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का था प्लान
वर्ष 2016 में प्रिंस ने लोकल और इंटरनेशनल लिस्टिंग के माध्यम से अरामको की 5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की योजना का ऐलान किया था। सऊदी सरकार कंपनी की वैल्यू 2 लाख करोड़ डॉलर या उससे ज्यादा निकलने की उम्मीद कर रही थी। वहीं इस आईपीओ के लगभग 6.7 लाख करोड़ रुपए (या 10 हजार करोड़ डॉलर) का फंड जुटने की उम्मीद थी। हालांकि इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स इस वैल्युएशन पर सवाल खड़े कर रहे थे।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट