विज्ञापन
Home » Economy » InternationalWhat is Most Favoured Nation status to Pakistan

मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) का दर्जा छिनने का पाक पर कितना होगा असर, जानिए क्या है विशेषज्ञ की राय

कहा-कर्ज से डूबे पाकिस्तान की मुसीबत बढ़ाने के लिए काफी है भारत का यह दांव

1 of

नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को हुए आतंकी हमले के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा छीन लिया है। आर्थिक मोर्च पर चुनौतियों का सामना कर रहे पाकिस्तान पर इसका कितना असर होगा। इस बार में मनी भास्कर ने रक्षा विशेषज्ञ गोबिंद सियोदिया से बातचीत की। 

 

पाकिस्तान में आने वाले निवेश पर पड़ सकता है असर 

 

पाकिस्तान ने आईएमएफ और अन्य देशों से मदद की लगाई है गुहार 

बता दें कि हाल ही में यूएई ने पाकिस्तान की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। वहीं हाल ही में पाकिस्तान में सऊदी अरब किंग सलमान ने दौरा किया, जिन्हें भारत भी आना है। पाकिस्तान आईएमएफ से मदद की गुहार लगा रहा है। लेकिन भारत की तरफ से मोस्ड फेवर्ड नेशन का दर्जा छिनने और प्रायोजित आतंकवाद फैलाने से उसके यहां आने वाले पाकिस्तान के निवेश पर असर पड़ सकता है। 

 

क्या होता है मोस्‍ट फेवर्ड 

फेवर्ड नेशन का दर्जा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक देश को दिया है, जिसका मतलब होता कि हम आपके साथ व्यापार में कभी भेदभाव नहीं करेंगे। एक देश की अगर दूसरे देश को एमएफएन का दर्जा देता है, तो उसे ट्रेड एग्रीमेंट में तवज्जों दी जाती है, साथ ही व्यापार में कई तरह की छूट दी जाती है। भारत ने वर्ल्ड ट्रेड नेशन के 1996 में पाकिस्‍तान को मोस्‍ट फेवर्ड नेशन का दर्जा दिया था। लेकिन पाकिस्तान की ओर से अब तक भारत को मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा नहीं दिया गया था। 

पाक पर आर्थिक तौर पर क्या होगा असर 

उदयोग चैंबर एसोचैम ने कहा कि पाकिस्‍तान को मोस्‍ट फेवर्ड नेशन का दर्जा देने से दोनों देशों के बीच कारोबार पर खास फर्क नहीं पड़ेगा। दोनों देशों के बीच कारोबार अब भी बेहद कम है। 2015-16 में भारत का कुल व्‍यापार 641 अरब डॉलर रहा है। वहीं पाकिस्‍तान के साथ व्‍यापार मात्र 2.67 अरब डॉलर रहा। पाकिस्‍तान को भारत का निर्यात मात्र 2.17 अरब डॉलर रहा। भारत के कुल निर्यात में यह मात्र 0.83 फीसदी है। वहीं पाकिस्‍तान से भारत का आयात 50 करोड़ डॉलर से भी कम है। यह भारत के कुल आयात का 0.13 फीसदी है। 

 

भारत पाकिस्तान का व्यापार

भारत और पाकिस्तान के बीच जिन चीजों का प्रमुखता से व्यापार होता है, उनमें सीमेंट, चीनी, आर्गेनिक केमिकल, कॉटन, फिलामेंट, सब्जी, ड्राई फ्रूड, मिनरल फ्यूल, मिनरल ऑयल, नमक, स्टोन, स्टील शामिल हैं। एक अनुमान के मुताबिक पाकिस्तान भारत से एक हजार के करीब कमोडिटी का आयात करता है, जबकि भारत पाकिस्तान से 600 कमोडिटी आयात करता है। 
 

 

चीन के लिए पाकिस्तान की मदद नहीं होगी आसान 

सिसोदिया के मुताबिक हमले में मारा गया आतंकी जैश ए मोहम्मद से है और जैश ए मोहम्मद का मुखिया मशूद अजहर है। ऐसे में चीन पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मदद नहीं कर पाएगा। विश्व के अन्य देशों की तरफ से चीन पर दबाव बनाने में मदद मिलेगी।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन