विज्ञापन
Home » Economy » Internationalwhat is common in all richest Americans, why Americans are so rich

कभी सोचा है! अमेरिका के लोग क्‍यों होते हैं सबसे अमीर ? वजह खुद जान लीजिए

अमेरिका के सभी अमीर 9 से 5 की जॉब के बारे में नहीं सोचते हैं। इनोवेशन उन्‍हें कम्‍पाउंडिंग ग्रोथ दिलाता है...

what is common in all richest Americans, why Americans are so rich
अमेरिका को सुपर पावर माना जाता है। बात चाहे इकोनॉमी की हो या डिफेंस और बिजनेस करने वाली कंपनियों की हो, अमेरिका और अमेरिकी लोग हर जगह छाए होंगे। किसी भी सेक्‍टर की टॉप-5 कंपनियों में कोई न कोई अमेरिकी कंपनी जरूर होती है। दुनिया भर के अमीरों की लिस्‍ट की बात करें तो यहां भी अमेरिका का कोई सानी नहीं है। फोर्ब्‍स की हर साल आने वाली दुनिया भर के टॉप-500 अमीरों की ग्‍लोबल लिस्‍ट में अकेले 400 सिर्फ अमेरिका के हैं। दुनिया के टॉप-10 अमीरों की बात करें तो इसमें भी 7 अमेरिकी नागरिक हैं। बिल गेट्स जेफ बेजोश और वॉरेन बफे दुनिया के ये टॉप-3 अमीर अमेरिका के ही हैं। बड़ा सवाल है कि आखिर अमेरिका में ही दुनिया के ज्‍यादातर अमीर क्‍यों पैदा होते हैं। यूएसए टूडे के मुताबिक, अमेरिका के हर अमीर में कुछ खास बातें होती हैं। यहीं कारण है कि पूरी दुनिया में उनका डंका बजता है। आइए जानते हैं कि आखिर हम अमेरिका के अमीरों में आखिर कौन सी खासियत होती है।

 

नई दिल्‍ली। अमेरिका को सुपर पावर माना जाता है। बात चाहे इकोनॉमी की हो या डिफेंस और बिजनेस करने वाली कंपनियों की हो, अमेरिका और अमेरिकी लोग हर जगह छाए होंगे। किसी भी सेक्‍टर की टॉप-5 कंपनियों में कोई न कोई अमेरिकी कंपनी जरूर होती है। दुनिया भर के अमीरों की लिस्‍ट की बात करें तो यहां भी अमेरिका का कोई सानी नहीं है। फोर्ब्‍स की हर साल आने वाली दुनिया भर के टॉप-500 अमीरों की ग्‍लोबल लिस्‍ट में अकेले 400 सिर्फ अमेरिका के हैं। दुनिया के टॉप-10 अमीरों की बात करें तो इसमें भी 7 अमेरिकी नागरिक हैं। बिल गेट्स जेफ बेजोस और वॉरेन बफे दुनिया के ये टॉप-3 अमीर अमेरिका के ही हैं। 

 

 बड़ा सवाल है कि आखिर अमेरिका में ही दुनिया के ज्‍यादातर अमीर क्‍यों पैदा होते हैं। यूएसए टूडे के मुताबिक, अमेरिका के हर अमीर में कुछ खास बातें होती हैं। यहीं कारण है कि पूरी दुनिया में उनका डंका बजता है। आइए जानते हैं कि आखिर हम अमेरिका  के अमीरों में आखिर कौन सी खासियत होती है।
 

 

नंबर-1: 9 से 5 की जॉब नहीं 
यूएसए टूडे के मुताबिक, फोर्ब्‍स की ग्‍लोबल लिस्‍ट में जगह बनाने वाले ज्‍यादातर अमेरिकी अमीरों में सबसे कॉमन बात यह है कि ये लोग कभी 9 से 5 की जॉब करके अमीर नहीं बने। अमीर बनने के लिए हमेशा आंत्रप्रेन्‍योरशिप का सहारा लिया। माइक्रोसॉफ्ट के लंबे समय तक सीईओ रहे स्‍टीव बॉल्‍मर को छोड़ दिया जाए तो शायद ही ऐसा कोई अमेरिकी अमीर होगा, जिसे 9 से 5 की जॉब ने अमीर बनाया हो। सीधी भाषा में कहें तो 9 से 5 की जॉब में आप सत्‍या नडेला, सुंदर पिचाई या इंदिरा नूयी जैसे ग्‍लोबल और काबिल सीईओ तो पैदा कर सकते हैं, लेकिन बिल गेट्स या मार्क जुकरबर्ग नहीं।  

 

 

नंबर-2: इनोवेशन दिलाता है कम्‍पाउंडिंग ग्रोथ 
वेबसाइट के मुताबिक, अगर टॉप-10 में शामिल बिल गेट्स, वॉरेन बफे, मार्क जुकरबर्ग, लैरी पेज या लैरी ए‍ल्‍सन की बात करें इन सभी को अमीर फैमिली बिजनेस ने नहीं बनाया। दरअसल इनोवेशन के साथ शुरू किए गए बिजनेस ने ही इन्‍हें दुनिया के टॉप-10 रईसों में शामिल किया। रिपोर्ट के मुताबिक, इनोवशन के साथ शुरू होने वाली कंपनियों की ग्रोथ हमेशा कम्‍पाउंडिंग रही है। यही कारण है कि अमेरिका के टॉप अमीर इतना पैसा चुके हैं कि दुनिया के अन्‍य किसी देश के अमीर बीते कई दशकों से उन्‍हें टक्‍कर देने की हैसियत में नहीं हैं। 

 

दुनिया के टॉप 10 रईसों में शामिल अमेरिकी    

नाम  वर्ल्‍ड रैंक  नेटवर्थ 
जेफ बेजोस 01 112 अरब अमेरिकी डॉलर 
बिल गेट्स 02  90 अरब अमेरिकी डॉलर
वॉरेन बफे 03 85 अरब अमेरिकी डॉलर
मार्क जुकरबर्ग 05 71 अरब अमेरिकी डॉलर
चार्ल्‍स कोच 08 60 अरब अमेरिकी डॉलर
डेविड कोच 08 60 अरब अमेरिकी डॉलर
लैरी एल्‍सन 10 58.5 अरब अमेरिकी डॉलर

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss