बिज़नेस न्यूज़ » Economy » InternationalH-1B वीजाः 7.50 लाख भारतीयों को राहत, नहीं छोड़ना पड़ेगा अमेरिका

H-1B वीजाः 7.50 लाख भारतीयों को राहत, नहीं छोड़ना पड़ेगा अमेरिका

अमेरिका में काम कर रहे करीब 7.50 लाख भारतीयों के लिए राहत की खबर है।

1 of

नई दिल्‍ली. अमेरिका में काम कर रहे करीब 7.50 लाख भारतीयों के लिए राहत की खबर है। अमेरिकी अधिकारियों ने मंगलवार को कहा है कि ट्रम्‍प प्रशासन ऐसे किसी भी प्रस्ताव पर विचार नहीं कर रहा है, जिसमें H-1B वीजाधारकों को देश छोड़ने पर मजबूर किया जाए। यानी, यह साफ है कि अमेरिका में काम कर रहे करीब साढ़े सात लाख भारतीयों को वहां से वापस नहीं लौटना पड़ेगा।

 

पिछले दिनों एक रिपोर्ट में कहा गया था कि ट्रम्‍प प्रशासन H-1B वीजा धारकों की वीजा अवधि बढ़ाने के प्रावधान को समाप्त करने पर विचार कर रहा है। इसकी वजह से वहां काम करने वाले आईटी इंजिनियर्स की नौकरी भी खतरे में पड़ जाएगी और उन्हें भारत वापस आना पड़ेगा।

 

 

कोई रेग्‍युलेटरी बदलाव नहीं: USCIS 

यूएस सिटीजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेस (यूएससीआईएस) ने कहा है कि वह ऐसे किसी रेग्‍युलेटरी बदलाव पर विचार नहीं कर रहा है, जिससे एच-1बी वीजा धारकों को अमेरिका छोड़ना पड़े। अमेरिका अपने 21वीं सदी में कॉम्पिटि‍टिवनेस एक्‍ट कानून (एसी21) के सेक्‍शन 104सी की भाषा में कोई बदलाव नहीं कर रहा है। यह सेक्‍शन एच-1बी वीजा अवधि में एक्‍सटेंशन देती है। इस सेक्‍शन के तहत एच-1बी वीजा की अवधि को छह साल से भी आगे बढ़ाया जा सकता है।
यूएससीआईएस में मीडिया हेड जोनाथन विथंगटन ने एक स्‍टेटमेंट में कहा, यदि ऐसा कुछ होता तो भी इस प्रकार के बदलाव से एच-1बी वीजा धारकों को अमेरिका नहीं छोड़ना पड़ता क्योंकि कानून की धारा 106 ए-बी के तहत इन प्रोफेशनल्‍स के इम्‍प्‍लॉयर एक-एक साल के विस्तार के लिए अप्‍लीकेशन दे सकते हैं।

 


'बाय अमेरिकन,  हायर अमेरिकन' के लिए कई पॉलिसी बदलाव 

जोनाथन विथंगटन ने कहा, प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्‍प के 'बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन' संबंधी आदेश पर अमल के लिए एजेंसी कई तरह के पॉलिसी बदलाव को आगे बढ़ा रही है। इसके तहत जॉब से जुड़े तमाम वीजा प्रोग्राम की भी समीक्षा की जा रही है। बता दें, एच1बी वीजा नियमों में बदलाव संबंधी रिपोर्ट्स का वहां की इंडस्‍ट्री और कई सांसदों की तरफ से विरोध किया गया था। 

 


नास्‍कॉम ने बताया था घातक कदम 

भारतीय आईटी इंडस्‍ट्री की ट्रेड एसोसिएशन नास्‍कॉम ने चेतावनी दी थी कि अमेरिका की तरफ से वीजा फ्रंट पर ऐसा बदलाव भारत और अमेरिका दोनों के लिए एक घातक कदम होगा। 

 

85 हजार H-1B वीजा जारी कर सकता है USCIS  

यूएससीआईएस के पास 65 हजार एच1बी वीजा जनरल कैटेगरी और अन्‍य 20 हजार हायर एजुकेशन अप्‍लीकेंट्स के लिए जारी करने का कांग्रेस की तरफ से अधिकार है। हायर एजुकेशन अप्‍लीकेंट्स के तहत अमेरिकी यूनिवर्सिटीज की ओर से साइंस, टेक्‍नोलॉजी, इंजीनियरिंग और मैथमैटिक्‍स में मास्‍टर्स या इससे ऊपर के कोर्स आते हैं। 

 

क्‍या है H-1B प्रोग्राम? 

एच1बी प्रोग्राम के तहत अस्‍थायी यूएस वीजा मिलता है। इसके तहत, अमेरिका में कंपनियों को अपने क्षेत्र के स्किल्‍ड विदेशी प्रोफेशनल्‍स को हायर करने के लिए की अनुमति मिलती है। पिछले साल जनवरी में ट्रम्‍प प्रशासन के आने के बाद एच1बी वीजा स्‍कीम को समाप्‍त करने की बातें होती रही हैं। चुनावी कैम्‍पेन के दौरान ट्रम्‍प ने वादा किया था कि वह एच1बी वीजा और एल1 वीजा के दुरुपयोग को रोकने के लिए इस पॉलिसी की समीक्षा करेंगे। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट