विज्ञापन
Home » Economy » InternationalUnited State on H1B visa

अमेरिका जाने वालों को झटका, सीमित की एच-1 बी वीजा संख्या, अब जा सकेंगे मात्र इतने लोग

एच-1 बी वीजा गैर प्रवासी वीजा है जो अमेरिका में विदेशियों को नौकरी की इजाजत देता है।

1 of

नई दिल्ली. अमेरिका में नौकरी का सपना देखने वालों को जोर का झटका लग सकता है, क्योंकि अमेरिका ने वित्त वर्ष 2020 के लिए भारतीय पेशेवरों समेत विदेशी नागरिकों को दिए जाने वाले एच-बी वीजा संख्या को सीमित कर दिया है। इसके तहत अब मात्र 65 हजार लोगों को ही यह वीजा दिया जाएगा। एच-1 बी वीजा गैर प्रवासी वीजा है जो अमेरिका कंपनियों को विदेशी कर्मचारियों को खासतौर से तकनीकी विशेषज्ञता वाले पेशों में नौकरी की अनुमति देता है। 

 

एक अप्रैल से वीजा के आवेदन मिलने हुए शुरू 

वीजा के आवेदनों को मंजूरी देने के काम से जुड़ी संघीय एजेंसी अमेरिकी नागरिकता एवं प्रवासी सेव (यूएससीआईएस) ने कहा कि उसे वित्त वर्ष 2020 के लिए कांग्रेस की ओर से एच-1 बी वीजा के लिए सीमित की गई 65 हजार की संख्या के हिसाब से पर्याप्त आवेदन मिल चुके हैं। वित्त वर्ष एक अक्टूबर 2019 से शुरू होगा। ऐसे में यूएससीआईएस को एक अप्रैल से वीजा के आवेदन मिलने शुरू हो गए हैं।

 

 

चयन न होने पर वापस होगा शुल्क 

एजेंसी ने यह नहीं बताया कि उसे पहले पांच दिनों में कितने आवेदन मिले हैं। एजेंसी ने कहा कि वह ऐसे आवेदनों को वापस भेजकर उनका शुल्क लौटा देगी। जिनका चयन नहीं किया जा सकता है। वह सिर्फ उन्हीं आवेदनों को स्वीकार करेगा, जिन्हें इस सीमा से छूट मिल चुकी है। 

 

 

इन भारतीयों को दी जाएगी वरीयता 

नए नियमों के तहत यूएससीआईएस ने उन आवेदनों को प्राथमिकता दी है, जिनमें लाभार्थियों ने अमेरिकी शैक्षणिक संस्थानों से स्नाकोत्तर की उपाधि हासिल की है। इस प्रक्रिया के तहत एजेंसी ने सबसे पहले उन सभी लाभार्थियों के आवेदनों का चयन किया है, जो उन्नत डिग्री की छूट के पात्र हो सकते हैं। वित्तीय वर्ष 2020 के लिए इलेक्ट्रॉनिक पंजीकरण की जरूरत को भी निलंबित कर दिया है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन