बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalमोदी ने की अपनों की मदद तो बौखलाए ट्रंप, लि‍खित में दी ये शि‍कायत

मोदी ने की अपनों की मदद तो बौखलाए ट्रंप, लि‍खित में दी ये शि‍कायत

भारत पर और टैक्‍स लगाने की धमकी देने के एक सप्‍ताह के बाद ही अमेरि‍का ने फि‍र मोदी सरकार पर नि‍शाना साधा है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। भारत पर और टैक्‍स लगाने की धमकी देने के एक सप्‍ताह के बाद ही अमेरि‍का ने फि‍र मोदी सरकार पर नि‍शाना साधा है। अमेरि‍का ने भारती पूरे एक्‍सपोर्ट प्रोग्राम पर ही उंगली  उठा दी है। उसका आरोप है कि भारत गैर वाजि‍ब तरीकों से अपने कारोबारि‍यों की मदद कर रहा है और इससे अमेरीकी मजदूरों को नुकसान हो रहा है। ट्रंप इस बात को लेकर इतने खफा हैं कि उन्‍होंने वर्ल्‍ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन (WTO) में इसकी शि‍कायत कर दी है। 


जि‍न कार्यक्रमों पर ट्रंप को भारी एतराज है उनमें मर्केंटाइज एक्‍सपोर्ट फ्रॉम इंडि‍या स्‍कीम, एक्‍सपोर्ट ओरि‍एंटेड यूनि‍ट स्‍कीम और अलग अलग सेक्‍टर के लि‍ए बनाई गईं योजनाएं शामि‍ल हैं। ट्रंप को इलेक्‍ट्रॉनि‍क हार्डवेयर टेक्‍नोलॉजी पार्क स्‍कीम, स्‍पेशल इकोनॉमिक जोन, एक्‍सपोर्ट प्रमोशन कैपि‍टल गुड्स स्‍कीम और ड्यूटी फ्री इंपोर्ट फॉर एक्‍सपोर्टर्स प्रोग्राम भी शामि‍ल है। आगे पढ़ें 

7 अरब डॉलर की सब्‍सिडी
अमेरि‍का के व्‍यापार प्रति‍नि‍धि रॉबर्ट लाइटजर ने कहा कि एक्‍सपोर्ट सब्‍सि‍डी प्रोग्राम की वजह से अमेरि‍की कामगारों को नुकसान उठाना पड़ता है। इसकी वजह से उन्‍हें एक ऐसा मैदान मि‍लता है, जहां किसी और का पलडा पहले ही भारी होता है। भारत इन योजनाओं के तहत 7 अरब डॉलर की सब्‍सि‍डी देता है। 
अमेरि‍का ने WTO में कहा है कि इस मुद्दे पर बातचीत होनी चाहि‍ए। यहां आने वाले विवादों के नि‍पटारे का पहला चारण बातचीत ही होता है। अगर दोनों पक्ष कि‍सी एक हल पर नहीं पहुंच पाते तो अमेरि‍का WTO विवाद नि‍पटारे पैनल के गठन की मांग कर सकता है। इसके बाद यह पैनल मामले को देखेगा। आगे पढ़ें 

 

कुल मि‍लाकर क्‍या है माजरा
कुल मि‍लाकर माजरा ये है कि भारत निर्यात को प्रोत्‍साहन देने के लि‍ए कई तरह की योजनाएं चलाता है। अमेरि‍का का कहना है कि भारत अपने कारोबारि‍यों व उत्‍पादकों को बहुत भारी सब्‍सि‍डी देता है, जि‍सकी वजह से इंटरनेशनल मार्केट में उनका पलड़ा भारी हो जाता है और अमेरि‍की कारेाबारी व उत्‍पादक हल्‍के पड़ जाते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट