बिज़नेस न्यूज़ » Economy » InternationalUS फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरें 0.25% बढ़ाई, 2018 में 3 बार और बढ़ोतरी के दिए संकेत

US फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरें 0.25% बढ़ाई, 2018 में 3 बार और बढ़ोतरी के दिए संकेत

फेडरल रिजर्व ने 2017 में तीसरी बार ब्याज दरें बढ़ाई हैं।

1 of

नई दिल्ली. अमेरिकी सेंट्रल बैंक फेडरल रिजर्व ने दो दिनों की बैठक के बाद इस साल तीसरी बार ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है। बुधवार को लिए गए फैसले में फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में 0.25% की बढ़ोतरी की है। इसके चलते अब अमेरिका में ब्याज दरें बढ़कर 1.25 से 1.50 फीसदी हो गई है। फेडरल रिजर्व ने 2017 में तीसरी बार ब्याज दरें बढ़ाई हैं। इसके साथ ही फेड ने साल 2018 में तीन और ब्याज दरों में बढ़ोतरी का अनुमान जताया है। 

 

मार्केट पर नहीं हुआ असर

- फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर ने कहा कि फेडरल रेट में बढ़ोतरी के फैसले को मार्केट पहले ही डिस्काउंट कर चुका था। इसलिए इसका असर आज घरेलू स्टॉक मार्केट में देखने को नहीं मिला।

- ब्याज दरों में बढ़ोतरी का संकेत यह है कि अमेरिकी इकोनॉमी मजबूत हो रही है जो ग्लोबल मार्केट के लिए अच्छा संकेत है।

 

 

अमेरिकी इकोनॉमी हो रही मजबूत

फेडरल रिजर्व का कहना है कि अमेरि‍की इकोनॉमी और जॉब मार्केट में मजबूत तेजी देखने को मि‍ल रही है। इसी के चलते फेड ने जीडीपी ग्रोथ का अनुमान भी 2.1% से बढ़ाकर 2.5% कर दिया है। बैंक की ओर से जारी बयान में कहा गया है इस बढ़ोतरी के साथ नौकरी, मार्केट और इकोनॉमिक व्यवस्था को मजबूत मिल सकती है। साथ ही टैक्स सुधार लागू होने से ग्रोथ की रफ्तार और बढ़ेगी।

 

ये भी पढ़ें- US फेड चेयरमैन जेनेट येलेन ने ट्रम्‍प को सौंपा इस्‍तीफा, जेरोम पॉवेल लेंगे जगह

 

क्यों बढ़ाई ब्याज दरें

फेडरल रिजर्व ने रेट बढ़ाने का फैसला जॉब मार्केट को देखते हुए लि‍या गया है, जि‍सके बारे में अच्‍छी ग्रोथ का अनुमान है। बैंक ने अमेरि‍का में नौकरि‍यों को लेकर बहुत गुलाबी तस्‍वीर पेश की है। महंगाई दर के 2 फीसदी तक पहुंचने की उम्मीद है और चरणों में ब्याज बढ़ाने से रोजगार बढ़ेगा। बैंक ने इस साल अक्‍टूबर से अपनी बैलेंसशीट भी घटानी शुरू कर दी है।

 

2017 में 3 बार बढ़ी दरें

दि‍संबर 2015 में अमेरि‍का के केंद्रीय बैंक ने ब्‍याज दरें बढ़ाने की शुरुआत की थी तो तकरीबन जीरो था और दि‍संबर 2016 में लगातार तीन बार बढ़ोतरी हुई। इस साल मार्च, जून के बाद अब दिसंबर में ब्‍याज दरें बढ़ाई गई हैं।

 

2008 के हाई पर पहुंची ब्याज दरें
अमेरिकी फेडरल बैंक ने ब्याज दरों में 0.25 फीसदी की बढ़ोतरी की घोषणा की। अमेरिका में ब्याज दरें बढ़कर 1.25 फीसदी से 1.5 फीसदी पर पहुंच गई है। बता दें कि साल 2008 के बाद अमेरिका में ब्याज दरें अपने हाई लेवल पर है। फेडरल रिजर्व की ओपन कमेटी में ब्याज दरें बढ़ाने के पक्ष में 7 वोट जबकि विपक्ष में 2 वोट पड़े।

 

महंगाई बढ़ने की आशंका

- कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग के वीपी अंबरीश बालिगा का कहना है कि फेड रेट में बढ़ोतरी का पहले से अनुमान था। फेड की कमेंट्री आने पर निर्भर करेगा कि इसका स्टॉक मार्केट पर क्या असर होगा। अमेरिकी ब्याज दरों में बढ़ोतरी से रुपया कमजोर होगा जबकि डॉलर मजबूत होगा। डॉलर में मजबूती से महंगाई बढ़ने की आशंका है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट