बिज़नेस न्यूज़ » Economy » InternationalUS ने दी 200 अरब डॉलर के इंपोर्ट पर टैरिफ की चेतावनी, चीन ने लगाया ब्लैकमेलिंग का आरोप

US ने दी 200 अरब डॉलर के इंपोर्ट पर टैरिफ की चेतावनी, चीन ने लगाया ब्लैकमेलिंग का आरोप

अमेरिका और चीन के बीच चल रही ट्रेड वार और गहराती जा रही है।

Trump warns china of strict action

वाशिंगटन/बीजिंग. अमेरिका और चीन के बीच चल रही ट्रेड वार और गहराती जा रही है। अमेरिका ने अब चीन के 200 अरब डॉलर के उत्पादों पर 10 फीसदी का आयात शुल्क लगाने की धमकी दी है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एक बयान जारी कर कहा कि उन्होंने अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि को उन चीनी उत्पादों की पहचान करने को कहा है जिन पर नए शुल्क लगाए जा सकते हैं। इसके जवाब में मंगलवार को चीन ने अमेरिका पर ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया और चेतावनी दी कि यदि अमेरिका अपने प्लान पर आगे बढ़ता है तो उसे भी ऐसे ही सख्त कदम उठाने होंगे। 

 

 

ट्रम्प ने चीन को किया आगाह 
इससे पहले ट्रम्प ने कहा कि यह कदम चीन द्वारा 50 अरब डॉलर के अमेरिकी उत्पादों पर 25 प्रतिशत अतिरिक्त शुल्क लगाने की घोषणा के जवाब में उठाया गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि‍ अगर चीन ने अपना रवैया नहीं बदला और अमेरिकी उत्पादों पर लगाए गए शुल्क पर कदम वापस नहीं खींचे तो जरूरी प्रक्रिया पूरी होने के बाद चीन के उत्पादों पर यह शुल्क लागू किये जाएंगे।  चीन ने शनिवार को 50 अरब डॉलर के अमेरिकी उत्पादों पर 25 प्रतिशत अतिरिक्त शुल्क लगाने की घोषणा की थी। 

 

 

चीन ने कहा-ब्लैकमेलिंग कर रहा है अमेरिका 
अमेरिका की इस धमकी पर प्रतिक्रिया देते हुए चीन की कॉमर्स मिनिस्ट्री के एक प्रवक्ता ने कहा कि यदि अमेरिका द्वारा अतिरिक्त टैरिफ के लिए चीनी उत्पादों की नई लिस्ट जारी करता है तो चीन के सामने भी कोई विकल्प नहीं होगा। ऐसे में उसे भी समान मात्रा में टैरिफ लगाने का फैसला लेना पड़ेगा। उन्होंने कहा, ‘दबाव बढ़ाने और ब्लैकमेलिंग की ऐसी प्रैक्टिस दो पक्षों के बीच सहमति की परंपरा के उलट है। ऐसा कंसल्टेशन के माध्यम से होता रहा है। ऐसे कदमों से ग्लोबल कम्युनिटी के हाथ निराशा ही लगेगी।’

 

 

बढ़ती जा रही है ट्रेड टेंशन  
इससे पहले अमेरिका ने शुक्रवार को ही 50 अरब डॉलर के चीनी उत्पादों पर 25 प्रतिशत आयात शुल्क लगाने की घोषणा की थी, जिसके जवाब में चीन ने यह कदम उठाया था। ट्रंप ने बौद्धिक संपदा की चोरी तथा अनैतिक व्यापारिक गतिविधियों का हवाला देकर चीन से आयातित उत्पादों पर आयात शुल्क लगाने की घोषणा की थी। चीन ने पलटवार की चेतावनी दी थी। अब अमेरिका ने एक बार फिर चीन के उत्पादों पर आयात शुल्क लगाने की धमकी दी है। इसके साथ दुनिया की इन दो प्रमुख अर्थव्यवस्‍थाओं के बीच ट्रेड टेंशन बढ़ती जा रही है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट