Home » Economy » InternationalTop lost treasures of world

दुनि‍या में 6 बड़े खजानों की हो रही है तलाश, 23 हजार करोड़ से ज्यादा है दौलत

खजानों की तलाश का काम मौजूदा दौर में एक शौक से आगे निकलकर इंडस्ट्री बन चुका है।

1 of

नई दिल्ली. खजानों की तलाश का काम मौजूदा दौर में एक शौक से आगे निकलकर इंडस्ट्री बन चुका है। दरअसल खजानों में छुपी बड़ी दौलत हमेशा से खोजकर्ताओं को अपनी तरफ खींचती रही है। हालांकि तमाम कोशिशों के बावजूद दुनि‍या में कम से कम 6 ऐसे बड़े खजाने हैं, जि‍नकी खोज आज भी चल रही है। हिस्‍टोरिक मि‍स्‍टरीज डॉट कॉम के मुताबि‍क, इन खजानों में से अधिकांश दुर्घटना की वजह से खोए हैं। वहीं कुछ को जानबूझ कर छुपाया गया है। इन खजानों की कीमत को लेकर हिस्टोरियन के बीच मतभेद हैं हालांकि सभी इतिहासकार इनकी मौजूदगी और इनकी बहुमूल्य होने को लेकर एक मत हैं।


1 स्पेन का खजाना (13 हजार करोड़ रुपए)


साल 1715 में स्पेन ने क्यूबा से अपना सबसे बड़ा खजाना वापस देश के लिए रवाना किया था। इस खजाने को 11 जहाजों में लाया जा रहा था और आज के हिसाब से जहाजों में 200 करोड़ डॉलर यानी करीब 13 हजार करोड़ रुपए का खजाना था। समुद्री डाकुओं और दुश्मनों की सेनाओं से बचने के लिए स्पेन के नाविकों ने ऐसे समय का चुनाव किया जो समुद्री तूफानों के मौसम के करीब पड़ता था। हालांकि तूफानों के समय से पहले आने की वजह से क्यूबा छोड़ने के सिर्फ 6 दिन के अंदर सभी जहाज सोने चांदी और सैकड़ों नाविकों के साथ डूब गए। अब तक 7 जहाजों का पता चल चुका है, हालांकि हिस्टोरियंस के मुताबिक खजाने का अधिकांश हिस्सा अभी भी सागर में है।   


 

2 इन्का का खोया खजाना (6500 करोड़ रुपए)


माना जाता था कि इन्का सभ्यता में अल डोराडो यानी सोने का शहर मौजूद है। इतिहासकार इस बात को कल्पना मानते हैं, हालांकि दक्षिण अमेरिका में मिले सैकड़ों सबूतों की वजह से इस बात से सभी इतिहासकार एकमत हैं कि इन्का सभ्यता में सोने और चांदी के भंडार मौजूद थे। 1572 में स्पेन के साथ हुई लड़ाई के बाद इन्का लोगों ने राज्य में मौजूद सोने और चांदी को किसी खुफिया जगह छुपा दिया। ब्रिटेन एक्सप्लोरर्स के मुताबिक यह खजाना 100 करोड़ डॉलर यानी करीब 6500 करोड़ रुपए है।

3 की वेस्ट का खजाना (1300 करोड़ रुपए)
साल 1622 स्पेन के जहाजों का बेड़ा फ्लोरिडा के की वेस्ट तट के करीब तूफान में फंस कर डूब गया था। इन डूबे हुए जहाजों में करोड़ों डॉलर मूल्य का सोना था। 1985 में मशूहर खोजी मेल फिशर 50 करोड़ डॉलर मूल्य का खजाना निकाल कर हिस्टोरियन की उन बातों को सच साबित कर दिया जिनके मुताबिक इस इलाके में काफी बड़ा खजाना मौजूद था। हिस्टोरियन के मुताबिक जहाज के कैप्टन को आधिकारिक पत्र के हिसाब से अभी भी 17 टन सिल्वर बार, 1.28 लाख सोने और चांदी के सिक्के, 27 किलो वजन के कीमती पत्थर और सोने के 35 बॉक्स तलाशे जाने बाकी हैं।

 

4 एम्बर रूम (1100 करोड़ रुपए)
द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान गायब हुई कीमती आर्टिफेक्ट में सबसे ऊपर इस रूम का नाम आता है। रूस के सेंट्स पीटर्सबर्ग के एक शाही महल में स्थित इस कमरे में 5500 किलो से ज्यादा एम्बर, सोना और कीमती रत्न लगे हुए थे। इस कमरे के बार में कई कहानियां हैं, कुछ के मुताबिक रूस पर आक्रमण के दौरान जर्मनी की सेना ने इस कमरे में लगी हर चीज को निकालकर अपने देश भेज दिया था, जहां मित्र सेनाओं की बमबारी में यह नष्ट हो गया।

 

वहीं कई इतिहासकार मानते हैं कि युद्ध से पहले रूस सरकार ने इस कमरे को अपनी जगह से हटाकर सुरक्षित जगह भेज दिया। हालांकि अभी तक इस कमरे के बारे में कोई जानकारी नहीं है। इस कमरे की अनुमानित कीमत 17 करोड़ डॉलर यानी करीब 11 सौ करोड़ है। 


 

5 किंग जॉन का खजाना


13वीं शताब्दी में ब्रिटेन पर किंग जॉन का राज्य था, जिसे हीरे जवाहरात और कीमत पत्थर जमा करने का काफी शौक था। साल 1216 में एक यात्रा के दौरान राजा ने एक बड़े खजाने को जल्द राजधानी पहुंचाने के लिए उसे छोटे लेकिन दलदली इलाके से ले जाने का आदेश दे दिया। हालांकि यात्रा के दौरान ज्वार आ जाने की वजह से ये खजाना डूब गया। खजाने का अब तक कोई पता नहीं चल सका है। हिस्टोरियन के मुताबिक इस खजाने में 7 करोड़ डॉलर से ज्यादा कीमत के हीरे और जवाहरात मौजूद थे।


 

6 फेन का खजाना
आर्ट डीलर, इतिहासकार और लेखक फॉरेस्ट फेन पुराने आर्टिफेक्ट और खजानों को खोजने की लिए काफी मशहूर रहे हैं। हालांकि कैंसर होने की वजह से उन्हे अपने अभियान छोड़ने पड़े लेकिन बीमारी से लड़ते हुए ही उन्होने ट्रेजर हंटिंग का जोश बनाए रखने के लिए खुद ही एक कॉम्पिटीशन कर दिया। फेन ने अपने सबसे कीमती आर्टीफेक्ट को खजाने की शक्ल में छुपा दिया है। वहीं इसे तलाश करने के लिए 9 पहेली दी हैं। इस खजाने की कीमत 10 से 30 लाख डॉलर के बीच है। अभी तक इस खजाने को कोई खोज नहीं सका है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट