Home » Economy » InternationalThis lone city of Japan is still waiting for people

घर, दफ्तर-मॉल सबकुछ है मगर लोग नहीं, 7 साल बाद वायरल हुईं Horror Pics

इस शहर में ऑफि‍स, घर, रेस्‍टोरेंट, मॉल, म्‍यूजि‍क लाइब्रेरी, ब्‍यूटी पार्लर सहि‍त सबकुछ मौजूद है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। इस शहर में ऑफि‍स, घर, रेस्‍टोरेंट, मॉल, म्‍यूजि‍क लाइब्रेरी, ब्‍यूटी पार्लर सहि‍त सबकुछ मौजूद है। बस यहां लोग नहीं हैं। जो कुछ जैसा था आज भी वैसे ही पड़ा है। एक नामी फोटोग्राफर ने इस शहर पर एक डॉक्‍यूमेंट्री बनाई है, जो पूरी दुनि‍या में फेमस हो रही है। इसमें दि‍ल को छू देने वाले अंदाज में उन लोगों की कहानी बयां की गई है जो कभी यहां रहा करते थे।

यह घटना 11 मार्च 2011 की दोपहर हुई थी। ओशिका से 70 किलोमीटर दूर रिक्टर पैमाने पर 9 तीव्रता वाला भूकंप उठा। भूकंप का केंद्र 24 किलोमीटर की गहराई पर था, मगर उसके चलते सुनामी आ गई। करीब 20 मिनट बाद सुनामी लहरें उत्तर के होककाइदो और दक्षिण के ओकीनावा द्वीप से टकराईं और वहां भारी तबाई मची।


 इस घटना में  15,000 से ज्यादा लोग मारे गए थे। इसके बाद विशाल लहरें फुकुशिमा दाइची परमाणु बिजली संयंत्र में घुस गईं। परमाणु संयंत्र में समुद्र का नमकीन पानी घुसने से रिएक्टर पिघलने लगे और धमाके होने लगे। संयंत्र से परमाणु विकिरण होने लगा, जि‍सके चलते आसपास के इलाकों को खाली कर लि‍या गया। फोटोग्राफर कार्लोस आइस्‍ता और गुआलि‍यम ब्रेसन ने अपनी टीम के साथ इस शहर को कैमरे में कैद कि‍या। उस घटना के 7 साल बाद ऐसा नजर आता है यह इलाका। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट