विज्ञापन
Home » Economy » InternationalEven after the Indo-Pak tension, a border where both and excitement

भारत-पाकिस्तान तनाव के बाद भी एक ऐसी सरहद जहां दोनों और उत्साह

दोनों देशों के बीच का तनाव भी करतारपुर कॉरिडोर के काम में न डाल सका रुकावट

Even after the Indo-Pak tension, a border where both and excitement


नई दिल्ली. पुलवामा हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच जारी तनाव के बाद भी दोनों देशों के बीच सरहद एक ऐसा हिस्सा भी है जहां जोर-शोर से काम चल रहा है। दोनों ही तरफ के लोग उत्साहित हैं इसके लिए। यह हिस्सा है करतारपुर साहेब कॉरिडोर का। बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक दोनों देशों को जोड़ने वाले इस कारिडोर का काम में पूरी रफ्तार से चल रहा है। लिहाजा 31 अगस्त 2019 की डेडलाइन तक इसका निर्माण भी पूरा हो जाएगा। 

करतारपुर से सिर्फ चार किमी दूर है भारत की सीमा 

बीबीसी के मुताबिक जब से करतारपुर साहेब कॉरिडोर के निर्माण का काम चल रहा है, तब से तीर्थस्थान को तीर्थयात्रियों के लिए बंद कर दिया गया है। दर्ज़नों ट्रक, क्रेन और डंपर पूरे इलाके में काम में जुटे हुए हैं। इमारत के चारों ओर की ज़मीन खोद दी गई है, सामने कीचड़ से भरी एक सड़क है जिसे पक्का बनाने का काम चल रहा है।  28 नवंबर 2018 को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कोरिडोर के निर्माण कार्य का उदघाटन किया। करतारपुर साहिब के गोविंद सिंह ने बताया कि हम जहाँ खड़े हैं वहां से भारत की सीमा सिर्फ़ चार किलोमीटर दूर है और कोरिडोर बनने के बाद तीर्थयात्री बहुत आसानी से आ सकेंगे। गौरतलब है कि जब कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल बाजवा से गर्मजोशी से मिले तो भारत में उसकी राजनीतिक तौर पर आलोचना भी हुई थी। 

800 मीटर लंबा पुल जोड़ेगा दोनों देशों की सीमाएं

दोनों देशों को जोड़ने के लिए  रावी नदी के ऊपर 800 मीटर लंबा पुल बनने वाला है जिससे दोनों देशों की सीमाएं जुड़ जाएंगी। बताया जा रहा है कि निर्माण कार्य 40 प्रतिशत पूरा हो चुका है। लोग अलग-अलग शिफ़्टों में 24 घंटे काम कर रहे हैं। प्रार्थना हॉल, बारादरी, यात्रियों के ठहरने के कमरे और लंगर की रसोई, इन सबका भी बड़ा बनाने का काम तेज़ी से चल रहा है। यह सिखों के सबसे पवित्र तीर्थस्थलों में गिना जाता है, यहां सिखों के पहले गुरू नानकदेव ने अपने जीवन के अंतिम 17 वर्ष यहीं बिताए और 16वीं सदी में उनका निधन भी यहीं हुआ। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन