विज्ञापन
Home » Economy » Foreign TradeTwitter CEO Jack Dorsey has done this as a sign, so many more CEOs also take less pay

Twitter CEO Jack Dorsey ने चार साल में सिर्फ 96 रुपए की सैलरी ली, फेसबुक, गूगल के प्रमुख भी लेते हैं कम सैलरी

अपने कर्मचारियों को प्रेरित करने के लिए सांकेतिक तौर पर ऐसा कदम उठाते हैं कंपनी प्रमुख, असल कमाई शेयरों से

Twitter CEO Jack Dorsey has done this as a sign, so many more CEOs also take less pay

लगातार चार साल से अब तक सभी भत्तों व लाभ को न कहने वाले ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी (Twitter CEO Jack Dorsey) ने पिछले साल तनख्वाह में केवल 1.40 डॉलर ही लिए।

नई दिल्ली. लगातार चार साल से अब तक सभी भत्तों व लाभ को न कहने वाले ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी (Twitter CEO Jack Dorsey) ने पिछले साल तनख्वाह में केवल 1.40 डॉलर ही लिए। अमेरिकी प्रतिभूति एवं विनिमय आयोग (एसईसी) के साथ एक फाइलिंग में कंपनी ने खुलासा किया कि ऐसा पहली बार है जब डोर्सी ने 2015 के बाद से ट्विटर से तनख्वाह ली है। 

 

यह भी पढ़ें - नए साल में आप यह पांच चीजें सीखेंगे तो नौकरी में पाएंगे तरक्की

 

वर्ष 2015 में संभाला था कंपनी का काम 

सीएनईटी ने ट्विटर की फाइलिंग के हवाले से कहा कि तीन साल तक सभी भत्तों और लाभ नहीं लेने के पीछे का कारण डोर्सी के ट्विटर की दीर्घकालिक मूल्य सृजन क्षमता में उनकी प्रतिबद्धता और विश्वास को मान्यता को देता है। वैसे यह सांकेतिक है।  सीएनईटी की रिपोर्ट के मुताबिक, डोर्सी की तनख्वाह (Jack Dorsey Salary) ट्वीट में ट्विटर यूजरों को दी जाने वाली 140 अक्षरों (Twitter 140 Characters) की सीमित संख्या के एक फीसदी के रूप में आती है। डोर्सी ने 2015 में कंपनी का नियंत्रण संभाला था। कंपनी ने 2017 के अंत में वर्णों की सीमित संख्या को 140 से बढ़ाकर 280 कर दिया था। 

यह भी पढ़ें - 10 बाइ 10 की छोटी सी दुकान में कभी शादी की पत्रिका छापता था यह शख्स, छापे में पता चली अकूत दौलत

 

सांकेतिक सैलरी लेते हैं तो फिर खर्च कैसे चलते हैं 

कंपनी से सांकेतिक सैलरी लेने का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले एपल के फाउंडर स्टीव जॉब्स, गूगल के एरिक स्क्मिड्ट, सेर्जे ब्रायन और लैरी पेज सीईओ के रूप में सांकेतिक सैलरी लेने के लिए जाने जाते हैं। फेसबुक के मार्क जुकरबर्ग भी एक डालर की सैलरी लेते हैं। दरअसल, कंपनियां में सीईओ, चेयरमैन या एमडी आदि पदों पर पदस्थ व्यक्तियों के पास कंपनी के सबसे ज्यादा शेयर होते हैं। इन शेयरों के लाभांश ही अरबों रुपए में होते हैं। साथ ही बाकी का खर्च जैसे गाड़ी, घर आदि का खर्च भी कंपनियां उठाती हैं।

यह भी पढ़ें  - मोदी ने दक्षिण फतह करने के लिए बदला इस मेट्रो सिटी की पहचान रहे रेलवे स्टेशन का नाम

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Recommendation
विज्ञापन
विज्ञापन