बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalअमेरि‍का में शटडाउन संकट खत्‍म, दोनों दलों में हुआ अस्‍थाई समझौता

अमेरि‍का में शटडाउन संकट खत्‍म, दोनों दलों में हुआ अस्‍थाई समझौता

अमेरि‍का में शटडाउन का संकट खत्‍म हो गया है।

1 of

नई दिल्‍ली। अमेरि‍का में शटडाउन का संकट खत्‍म हो गया है। रिपब्लिकन और डेमोक्रेट्स के बीच हुए समझौते के बाद तीन दि‍न से बंद सरकारी कामकाज फि‍र से शुरू हो पाएगा। अमरीकी संसद के दोनों सदनों सीनेट और प्रतिनिधि सभा ने संघीय सरकार को फंड मुहैया कराने के अस्थाई बिल को मंज़ूरी दे दी, जि‍सके बाद अमेरि‍का के राष्‍ट्रपति‍ डोनाल्‍ड ट्रंप ने खर्च मुहैया कराने वाले बि‍ल पर हस्‍ताक्षर कर दि‍ए। 

 

 

अमेरिकी सीनेट में सरकारी काम काज के लिए फंडिंग को मंजूरी देने वाला बिल पास नहीं होने के चलते 20 जनवरी को शटडाउन हो गया था। समझौते के बाद फिलहाल यह संकट अस्थायी रूप से टल गया है। सरकार के हजारों कर्मचारियों ने राहत की सांस ली है क्‍योंकि शटडाउन की वजह से उन्‍हें कुछ समय के लिए बिना वेतन के छुट्टी पर जाना पड़ गया था। हालांकि यह समझौता केवल ढाई सप्‍ताह के लि‍ए है। 


ऐसे खड़ी हुई मुसीबत 
रिपब्लिकन के नियंत्रण वाले हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स ने बीते गुरुवार को स्टॉपगैप फंडिंग मेजर्स को मंजूरी दी थी। लेकिन रिपब्लिकंस को सीनेट में बिल पास कराने के लिए कम से कम 10 डेमोक्रेट्स के सपोर्ट की जरूरत थी। 


डेमोक्रेटिग लीडर्स ने हजारों अनडॉक्यूमेंटेड इमिग्रैंट्स जिन्हें 'ड्रीमर्स' के नाम से भी जाना जाता है, को प्रोटेक्शन देने सहित कई मांगें रखीं। रिपब्लिकन्स ने इन मांगों को मानने से इनकार कर दिया और कोई भी पक्ष अपने रुख से पीछे हटने को तैयार नहीं था। 


डेमोक्रेट्स की एकजुटता की वजह से खर्चों से जुड़ा बि‍ल अमेरिकी सीनेट में पास नहीं हो पाया और शनि‍वार को शटडाउन की शुरुआत हो गई।  20 जनवरी को ही डोनाल्ड ट्रम्प को प्रेसिडेंट बने एक साल पूरा हुआ था। ऐसे में इस संकट ने ट्रम्प सरकार की पहली सालगिरह पर ही तगड़ा झटका दे दि‍या। 


क्‍या होता है शटडाउन का मतलब 
मोटेतौर पर देखा जाए तो शटडाउन का मतलब होता है सरकार का कामकाज बंद हो जाना। हालांकि‍ सभी जरूरी सेवाएं चलती रहती हैं। शटडाउन का असर फेडरल गवर्नमेंट की सेवाओं पर पड़ता है। इसका असर राज्‍य सरकार की सेवाओं पर नहीं पड़ता। शटडाउन की वजह से फेडरेल कर्मचारि‍यों की अवैतनि‍क अवकाश पर जाना पड़ता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट