बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalअब होगा कारोबारि‍यों की कि‍ताबों का 'हि‍साब', डबल एक्‍शन शुरू

अब होगा कारोबारि‍यों की कि‍ताबों का 'हि‍साब', डबल एक्‍शन शुरू

जीएसटी लागू होने के बाद सरकार ने इसका दूसरा फेज शुरू कर दि‍या है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। जीएसटी लागू होने के बाद सरकार ने इसका दूसरा फेज शुरू कर दि‍या है। इसके तहत दो तरफ से शि‍कंजा कसा जा रहा है। नंबर एक - सबसे पहले उन लोगों से हि‍साब कि‍ताब मांगा जा रहा है, जिन्‍होंने जीएसटी की रि‍टर्न फाइल कर दी है, और उनकी रि‍टर्न में कहीं कोई 'मि‍समैच' नजर आ रहा है। जीएसटी अधि‍कारि‍यों ने उन कंपि‍नयों को नोटि‍स भेजना शुरू कर दि‍या है जिनकी जीएसटी रि‍टर्न उनकी फाइनल सेल्‍स रि‍टर्न से मैच नहीं कर रही है। सूत्रों के मुताबि‍क, अधि‍कारि‍यों ने पता लगाया है कि करीब 34 फीसदी जीएसटी कम मि‍ला है। अब इसी की पड़ताल के लि‍ए यह कार्रवाई शुरू की गई है।


34400 करोड़ रुपए कम टैक्‍स 
कैलकुलेशन के अनुसार, करीब 34 फीसदी कंपनि‍यों ने जुलाई-दि‍संबर के दौरान करीब 34400 करोड़ रुपए कम कर का भुगतान कि‍या है। इन कंपनि‍यों ने जीएसटीआर 3बी के तहत 8.16 लाख करोड़ रुपए का भुगतान कि‍या, जबकि इन्‍हें करीब 8.50 लाख करोड़ का भुगतान करना था। जीएसटी अधि‍कारि‍यों की ओर से इन लोगों को नोटि‍स जारी कि‍या गया है।  आगे पढ़ें 

नंबर 2 - प्राइवेट एजेंसी पकड़ेगी चोर 
इतना ही नहीं जीएसटी नेटवर्क (GSTN) ने कि‍सी भी तरह की धोखाधड़ी को पकड़ने के लि‍ए अब अपने सि‍स्‍टम को और पुख्‍ता बनाने का फैसला कर लि‍या है। फैसला यह लि‍या गया है कि अगर सरकारी मशीनरी कम पड़ रही हो तो प्राइवेट को हायर कि‍या जाए, मगर कर चोरों को बख्‍शा ना जाए। जीएसटीएन ने डाटा की पड़ताल में नि‍जी एजेंसि‍यों को भी शामि‍ल कर रहा है। इसके लि‍ए इच्‍छुक पार्टीज से प्रपोजल मांगा गया है। जो भी कंपनी चुनी जाएगी उसका काम होगा कि वह डाटा का वि‍शलेषण कर इस तरह की प्रणाली वि‍कसि‍त करे, जि‍ससे कोई धोखाधड़ी ना कर पाए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट