बिज़नेस न्यूज़ » Economy » International'हार्ड डाटा' पर दी गई डूइंग बिजनेस रैंकिंग: वर्ल्‍ड बैंक

'हार्ड डाटा' पर दी गई डूइंग बिजनेस रैंकिंग: वर्ल्‍ड बैंक

वर्ल्‍ड बैंक के चीफ इकोनॉमिस्‍ट पॉल रोमर ने रैंकिंग पर सवाल उठाए थे।

1 of

नई दिल्‍ली.  कुछ देशों की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैकिंग पर अपने ही चीफ इकोनॉमिस्‍ट की ओर से संदेह जताने पर वर्ल्‍ड बैंक ने बयान जारी किया है। वर्ल्‍ड बैंक ने कहा है कि रैंकिंग इंडिकेटर्स और कार्यप्रणाली किसी एक देश को ध्‍यान में रखकर डिजाइन नहीं किया गया। रैंकिंग 'हार्ड डाटा' (ठोस आंकड़ों) के आधार पर जारी की गई है। 

 

वर्ल्‍ड बैंक के चीफ इकोनॉमिस्‍ट ने उठाए थे सवाल

वर्ल्‍ड बैंक के चीफ इकोनॉमिस्‍ट पॉल रोमर ने शुक्रवार को वॉल स्‍ट्रीट जर्नल से इंटरव्‍यू में कहा था कि ऑर्गनाइजनेशन ने अपनी डूइंग बिजनेस रैंकिंग की कार्यप्रणाली में बदलाव किया है। वर्ल्‍ड बैंक की ओर से कम से कम चार साल की रैंकिंग की नए सिरे से गणना होगी। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग की विश्वनीयता को लेकर कहा जा रहा था कि यह पूरी तरह सही नहीं है। वर्ल्‍ड बैंक ने कहा कि हमारे रिसर्च में सभी देशों को एक ही पैमाने पर मापा गया है। डूइंग बिजनेस इंडिकेटर्स और कार्यप्रणाली किसी खास देश को ध्‍यान में रखकर डिजाइन नहीं किए गए हैं लेकिन फिर भी बिजनेस क्‍लाइमेट बेहतर किया जा सकता है। 

 

30 पायदान बढ़ी थी भारत की रैंकिंग

रोमर ने चिली की रैंकिंग पर संदेह जताया था। हालांकि भारत के बारे में कुछ नहीं बोला था। वर्ल्‍ड बैंक ने अपनी हालिया रैंकिंग में भारत की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग 30 पायदान बढ़ाकर 100 कर दी थी। यह रैंकिंग 190 देशों में दी गई। वर्ल्‍ड बैंक ने भारत को यह रैंकिंग कई मामलों जैसे बिजनेस शुरू करने, लोन लेने, टैक्‍स देने और इन्‍सॉलेंसी पर रिफॉर्म्‍स लागू करने के आधार पर दी थी। 

 

34 से फिसलकर 57 हुई थी चिली की रैंकिंग

रोमर ने कहा था कि चिली के केस में रैंकिंग की कार्यप्रणाली में बदलाव राजनीति से प्रेरित हो सकता है। यह चिली के बिजनेस इन्‍वॉयरमेंट के वास्‍तविक गिरावट के आधार पर नहीं थी। । चिली की रैंकिंग 2014 के 34 से फिसलकर 2017 में 57 पर पहुंच गई। रोमर ने कहा, 'मैं चिली से व्यक्तिगत रूप से माफी मांगता हूं। साथ ही किसी भी अन्य देश से माफी चाहता हूं जहां हमने गलत धारणा बना दी है।' 

 

वर्ल्‍ड बैंक ने कहा कि पिछले 15 साल के टेन्‍योर में डूइंग बिजनेस इंडेक्‍स आकिसी देश के रिफॉर्म्‍स और बिजनेस क्‍लाइमेट में सुधार को आंकने का बेहतर टूल है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट