विज्ञापन
Home » Economy » InternationalProposed US Law To End Green Card Country-Cap To Benefit Indians On visa

अमेरिकी नागरिकता का इंतजार कर रहे भारतीयों के लिए बड़ी खुशखबरी, VISA संबंधी नियमों में मिल सकती है राहत

माइक ली और  कमला हैरिस ने सीनेट में फेयरनेस फोर हाई स्किल्ड इमिग्रेंट्स एक्ट पेश किया

Proposed US Law To End Green Card Country-Cap To Benefit Indians On visa

Proposed US Law To End Green Card Country-Cap To Benefit Indians On visa अमेरिका के ग्रीन कार्ड (स्थायी निवास का कार्ड) संबंधी कानून में संशोधन के लिए संसद में पेश एक ही तरह के दो विधेयक पेश किए गए हैं जिनमें हर देश के हिसाब से इस कार्ड पर लगी अधिकतम सीमा समाप्त करने का प्रस्ताव है। यदि ये विधेयक पारित हो गये तो अमेरिका की स्थायी नागरिकता का इंतजार कर रहे हजारों भारतीय पेशेवरों को फायदा मिल सकता है।

वाशिंगटन। अमेरिका के ग्रीन कार्ड (स्थायी निवास का कार्ड) संबंधी कानून में संशोधन के लिए संसद में पेश एक ही तरह के दो विधेयक पेश किए गए हैं जिनमें हर देश के हिसाब से इस कार्ड पर लगी अधिकतम सीमा समाप्त करने का प्रस्ताव है। यदि ये विधेयक पारित हो गये तो अमेरिका की स्थायी नागरिकता का इंतजार कर रहे हजारों भारतीय पेशेवरों को फायदा मिल सकता है।

 

माइक ली और  कमला हैरिस ने सीनेट में फेयरनेस फोर हाई स्किल्ड इमिग्रेंट्स एक्ट पेश किया


पीटीआई के मुताबिक,  रिपब्लिक पार्टी के सांसद माइक ली और डेमोक्रेटिक सांसद कमला हैरिस ने सीनेट में बुधवार को फेयरनेस फोर हाई स्किल्ड इमिग्रेंट्स एक्ट पेश किया। इसी तरह का एक अन्य विधेयक फेयरनेस फोर हाई स्किल्ड इमिग्रेंट्स एक्ट (एचआर 1044) सांसदों जोए लॉफग्रेन और केन बक ने हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्स में पेश किया। यदि संसद में ये विधेयक पारित हो गये और कानून बन गये तो एच-1बी वीजा धारक हजारों भारतीय पेशेवरों को फायदा होगा।

 

चीन और भारत लोगों को करना पड़ सकता है इंतजार


अभी अमेरिका प्रति वर्ष करीब 1,40,000 लोगों को ग्रीन कार्ड देता है। हालांकि मौजूदा नियमों के अनुसार इनमें से किसी भी एक देश के लोगों को सात प्रतिशत से अधिक ग्रीन कार्ड नहीं दिये जा सकते हैं। इस नियम के कारण चीन और भारत जैसे अधिक आबादी वाले देशों के लोगों को दशकों का इंतजार करना पड़ जाता है। हैरिस ने विधेयक पेश करते हुए कहा, ‘‘हम शरणार्थियों के देश हैं और हमारी ताकत हमेशा विविधता और एकता में निहित रही है।’’ 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss