विज्ञापन
Home » Economy » InternationalThe report of China's newspaper Global Times did not have the ability to make production in India

चीनी मीडिया का तंज, भारतीय लोगों की मजबूरी है चीन सामान, बायकॉट की मुहिम खोखली 

चीन के अखबार ग्लोबल टाइम्स में छपी रिपोर्ट में भारत में प्रोडक्शन करने की क्षमता नहीं

The report of China's newspaper Global Times did not have the ability to make production in India

आखिर चीन पुलवामा हमले के आरोपी आतंकी मसूद का बचाव क्यों करता है? चीनी मीडिया ने इसका जवाब दिया है। भारत और इसके नेताओं पर तंज कसते हुए कहा है कि भारत की मजबूरी है कि चीन का सामान खरीदें। इसलिए चीन को कोई फर्क नहीं पड़ता है कि वह भारतीय लोगों के चाइनीज प्रोडक्ट के बहिष्कार के दबाव में आए।

नई दिल्ली. आखिर चीन पुलवामा हमले के आरोपी आतंकी मसूद का बचाव क्यों करता है? चीनी मीडिया ने इसका जवाब दिया है। भारत और इसके नेताओं पर तंज कसते हुए कहा है कि भारत की मजबूरी है कि चीन का सामान खरीदें। इसलिए चीन को कोई फर्क नहीं पड़ता है कि वह भारतीय लोगों के चाइनीज प्रोडक्ट के बहिष्कार के दबाव में आए। चाइनीज अखबार ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि भारत पसंद करे या न करे, चाइनीज सामान खरीदना उसकी मजबूरी है। भारत के पास इसका कोई विकल्प नहीं है। 

भारतीय नेता सिर्फ ट्विटर पर करते हैं हंगामा

मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करने में चीन के अड़ंगे पर भारत में सोशल मीडिया पर चाइनीज प्रोडक्ट के बहिष्कार की मुहिम चली। कई नेताओं और कारोबारियों ने बहिष्कार के पक्ष में बयान दिए। इस पर अब चीन से प्रतिक्रिया आ रही है। लेख में भारतीय नेताओं से कहा गया है कि वे ट्विटर पर चीन के खिलाफ हंगामा करने की बजाय अपने देश की क्षमता बढ़ाने पर ध्यान दें। भारत में मैन्यूफैक्चरिंग उद्योग अब भी विकसित नहीं हुआ है। यह प्रोडक्ट उत्पादन में सक्षम नहीं है। इसलिए चाइनीज प्रोडक्ट के बहिष्कार की कोशिश हर बार विफल हो जाती है। भारतीयों को पसंद आए या न आए, चाइनीज प्रोडक्ट खरीदने के अलावा उनके पास कोई विकल्प नहीं है। वे बड़े पैमाने पर उत्पादन नहीं कर सकते हैं। 

राष्ट्रवाद को हवा देने से भारत को ही नुकसान

 चीन में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी से संबद्ध इस अखबार ने जिन भारतीय नेताओं की आलोचना की है उनमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हैं। अखबार ने लिखा है, 'भारत में ऐसी ताकतें मौजूद हैं जो देश में रिफॉर्म की प्रक्रिया को बाधित कर रही हैं। इन नेताओं को वोट पाने के लिए चीन के खिलाफ माहौल नहीं बनाना चाहिए। भारतीय लोगों का ध्यान मुख्य मुद्दों से हटाकर चीन की ओर करने से भारत की अंदरूनी समस्याएं और गहरी होंगी। भारत और चीन के बीच पिछले कुछ साल में रिश्ते बेहतर हुए हैं और चीन भी भारत के व्यापार घाटे को कम करने की कोशिश कर रहा है। पीएम मोदी पर भी अप्रत्यक्ष तंज कसते हुए लिखा गया है कि में राष्ट्रवाद को हवा देने और लोकप्रियता हासिल करने के लिए भारतीय लोगों के बीच में चीन को खतरे के तौर पर पेश करना खतरनाक होगा। इससे नेताओं को तो फायदा हो सकता है लेकिन अर्थव्यवस्था को नुकसान होगा। 

व्यापारियों ने 1,500 जगहों पर चीनी समानों की होली जलाई

 व्यापारियों के संगठन कैट ने मंगलवार को देशभर में करीब 1,500 जगहों पर चीनी सामान की होली जलाई। इसके अलावा व्यापारियों ने चीनी सामान का बहिष्कार करने का भी संकल्प लिया। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि चीन की पाकिस्तान समर्थक करतूतों से देश के व्यापारी बेहद नाराज हैं। इनकी मांग है कि चीन से हो रहे कारोबार पर कुछ प्रतिबंध लगने चाहिए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन