Home » Economy » InternationalNawaz Sharif gets 10 yrs rigorous imprisonment in Avenfield corruption case

भ्रष्‍टाचार में पाक के पूर्व PM नवाज शरीफ को 10 साल की कैद, बेटी-दामाद भी गए जेल

शरीफ पर पर 8 मिलियन पाउंड (करीब 72 करोड़ रुपए) का जुर्माना भी लगाया गया है।

Nawaz Sharif gets 10 yrs rigorous imprisonment in Avenfield corruption case

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अवेनफील्ड भ्रष्टाचार मामले में 10 साल कैद की सजा सुनाई गई है। पाकिस्‍तान की अकाउंटेबिलिटी कोर्ट के जज मोहम्‍मद बशीर ने यह फैसला सुनाया। शरीफ पर पर 8 मिलियन पाउंड (करीब 72 करोड़ रुपए) का जुर्माना भी लगाया गया है। शरीफ के साथ-साथ उनकी बेटी मरियम और दामाद कैप्टन सफदर भी इस मामले में शामिल थे, लिहाजा उन्‍हें भी सजा सुनाई गई। मरियम को 7 साल जेल, 18 करोड़ जुर्माने और सजा सफदर को 1 साल जेल की सजा सुनाई गई है।

 

बता दें कि शरीफ पर लंदन के अवेनफील्ड स्थित 4 फ्लैट भ्रष्टाचार के पैसों से खरीदने का आरोप था। यह आरोप पाकिस्‍तान के नेशनल अकाउंटबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) ने लगाया था। कोर्ट ने अवेनफील्‍ड अपार्टमेंट्स की जब्‍ती का भी आदेश दिया है। 

 

कानूनी और संवैधानिक रास्ते से लेंगे इंसाफ

कोर्ट के इस फैसले के बाद नवाज शरीफ के भाई शाहबाज शरीफ ने कहा कि हम इस फैसले से काफी निराश हैं लेकिन हार नहीं मानेंगे। हम कानूनी और संवैधानिक रास्ते से इंसाफ लेंगे। हमारी पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के सभी उम्मीदवार चुनाव में लड़ेंगे और पाकिस्तान की जनता को हमारे साथ हुई नाइंसाफी के बारे में बताएंगे। 

 

चुनावों से चंद दिन पहले आया फैसला

यह फैसला उस वक्‍त आया है, जब पाकिस्‍तान में आम चुनाव केवल 18 दिन दूर हैं। पाकिस्‍तान में आम चुनाव 25 जुलाई को होना तय है।  इस वक्‍त शरीफ लंदन में हैं। वह गले के कैंसर से पीडित अपनी पत्‍नी कुलसूम नवाज की देखभाल कर रहे हैं। 

 

मरियम-सफदर के बेटे भी हैं दोषी

मरियम और सफदर के बेटे हसन और हुसैन भी इस मामले में दोषी थे। लेकिन वे दोनों कभी कोर्ट में पेश नहीं हुए, लिहाजा उन्‍हें फरार घोषित किया जा चुका है। कोर्ट का फैसला आने के बाद मरियम और सफदर चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। मरियम लाहौर से आम चुनावों में उतरी थीं। 

 

इससे पहले चार बार टल चुका है फैसला

इससे पहले नवाज शरीफ ने पत्नी की खराब तबीयत का हवाला देते हुए कोर्ट से सात दिन की मोहलत मांगी थी। हालांकि, आम चुनाव को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने भ्रष्टाचार निरोधक अदालत को आदेश दिया था कि नवाज परिवार के खिलाफ मामलों का जल्द निपटारा किया जाए। इससे पहले इस मामले में फैसला चार बार आगे बढ़ाया जा चुका है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट