विज्ञापन
Home » Economy » InternationalKidney Racket Links In Turkey and Srilanka

श्रीलंका और टर्की से जुड़े थे किडनी के काले कारोबार के तार, गांव के भोले-भाले लोगों को बनाते थे अपना शिकार

30 लाख रुपए में किडनी और 80 लाख रुपए में लिवर का हिस्सा बेचा जा रहा था

Kidney Racket Links In Turkey and Srilanka

Kidney Racket Links In Turkey and Srilanka: तफ्तीश में यह भी पता चला है कि डॉक्टर चेतन यह कारोबार श्रीलंका और टर्की में भी चला रहे थे। गरीबों को विदेश भेजकर भी किडनी-लिवर बेचने का धंधा किया जा रहा था। यह रैकेट अमीरों को 30 लाख रुपए में किडनी और 80 लाख रुपए में लिवर का हिस्सा बेचता था, लेकिन मजदूरों को इसके बदले में सिर्फ 5-7 लाख रुपए ही दिए जाते थे।

नई दिल्ली.

देश में चल रहे किडनी रैकेट के तार श्रीलंका और टर्की से भी जुड़े हैं। इस रैकेट के तार कानुपर से खुले हैं। कानपुर पुलिस ने वहां कुछ लोगों को इस मामले में गिरफ्तार किया है। यह गिरोह रुपयों का लालच देकर गरीब मजदूरों को किडनी और लिवर बेचने को मजबूर करता था। इसमें दिल्ली के एक डॉक्टर चेतन कौशिक का नाम सामने आया है। तफ्तीश में यह भी पता चला है कि डॉक्टर चेतन यह कारोबार श्रीलंका और टर्की में भी चला रहे थे। गरीबों को विदेश भेजकर भी किडनी-लिवर बेचने का धंधा किया जा रहा था। यह रैकेट अमीरों को 30 लाख रुपए में किडनी और 80 लाख रुपए में लिवर का हिस्सा बेचता था, लेकिन मजदूरों को इसके बदले में सिर्फ 5-7 लाख रुपए ही दिए जाते थे।

 

कई बड़े अस्पतालों का नाम भी आया

कानपुर पुलिस के मुताबिक इस रैकेट के तार कानुपर से खुलने के बाद दिल्ली के भी कई अस्पतालों का नाम इस मामले में सामने आया है। इसके साथ ही क्राइम ब्रांच ने गैर-आधिकारिक रूप से इसकी जांच शुरू कर दी है। वहीं साउथ दिल्ली के एसपी रवीना त्यागी ने बताया कि दिल्ली के कुछ अस्पतालों में कोऑर्डिनेटर्स पर शक की सुई जा रही है। इस रैकेट के लोग गरीबों को नौकरी का झांसा देकर उन्हें दूर-दराज इलाकों में ले जाते थे। वहीं अस्पतालों के कोऑर्डिनेटर्स फर्जी कागजात बनवाने, उन्हें पास कराने से लेकर मेडिकल चेकअप कराने का काम करते थे।

 

ऐसे होती थी किडनी-लिवर की तस्करी

ऑर्गन डोनेशन में हेराफेरी के लिए ऑर्गन डोनर अपना ब्लड सैंपल बदलकर ऑर्गन पाने वाला का रिश्तेदार बन जाता है। ऐसा करने से किडनी, लिवर सहित अन्य अंगों की तस्करी आसानी से हाे जाती है। लोग एक टेस्ट के जरिए आसानी से यह साबित कर देते हैं कि किडनी देने वाला मरीज का करीबी रिश्तेदार है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन