बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalट्रम्‍प ने दिया दोस्‍त मोदी को झटका, देश को होगा ये नुकसान

ट्रम्‍प ने दिया दोस्‍त मोदी को झटका, देश को होगा ये नुकसान

ट्रम्‍प सरकार ने अपने एक हालिया फैसले से ट्रेड के मोर्चे पर पीएम मोदी को तगड़ा झटका दिया है।

1 of

नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनॉल्‍ड ट्रम्‍प के बीच दोस्‍ती की चर्चा पिछले एक साल में काफी हो रही है। डिप्‍लोमेसी के मोर्चे पर यह दोस्‍ती भले ही एक सुर में नजर आती हो लेकिन कारोबारी मामले में हालात उलट है। ट्रम्‍प सरकार ने अपने एक हालिया फैसले से ट्रेड के मोर्चे पर पीएम मोदी को तगड़ा झटका दिया है। 

 

दरअसल, अमेरिका ने अपने घरेलू बिजनेस और कारोबारियों को बचाने के लिए भारत से इम्‍पोर्ट होने वाले स्टेनलैस स्टील के फ्लेंज और बारीक डेनियर पॉलिएस्टर स्टेपल फाइबर पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी लगा दी है। अमेरिका ने हालांकि यह पाबंदी चीन पर भी लगाई है। अमेरिका की तरफ से लगाई गई इस पाबंदी से भारतीय कंपनियों को नुकसान होगा। 

 

अमेरिका के कॉमर्स डिपार्टमेंट के अनुसार, 2016 में चीन और भारत से फाइन डेनियर पॉलिएस्टर स्टेपल फाइबर का इम्‍पोर्ट क्रमश: 7.94 करोड़ डॉलर और 1.48 करोड़ डॉलर रहा। इसी तरह, 2016 में चीन और भारत से स्टेनलेस स्टील के फ्लेंज का इम्‍पोर्ट क्रमश: 1.63 करोड़ डॉलर और 3.21 करोड़ डॉलर का था।

 

आगे पढ़ें.. अमेरिका ने क्‍या किया यह फैसला 

अमेरिका ने क्‍यों किया यह फैसला?

अमेरिका के कॉमर्स मिनिस्‍टर विल्बर रॉस ने बुधवार को बताया कि इन प्रोडक्‍ट्स के एक्‍सपोर्ट को प्रोत्साहित करने के लिए चीन 41.73 से 47.55 फीसदी और भारत 9.50 से 25.28 फीसदी तक सब्सिडी दे रहा है। इसे देखते हुए उन्होंने अमेरिका के कस्‍टम एंड बॉर्डर प्रोटेक्‍शन विभाग को चीन और भारत से इम्‍पोर्टेड फाइन डेनियर पॉलिएस्‍टर स्टेपल फाइबर पर इन अंतिम दरों के आधार पर कैश वसूली करने को कहा है।

 

आगे पढ़ें... सब्सिडी पर क्‍यों भड़का अमेरिका 

तबाह होते नहीं देख सकते घरेलू कारोबार 

विल्‍बर रॉस ने कहा कि अमेरिका अब चुपचाप बैठकर अपने घरेलू कारोबार को तबाह होते हुए नहीं देख सकता है। विदेशों में दी जाने वाली अनुचित सब्सिडी से घरेलू इंडस्‍ट्री को नुकसान नहीं होने दिया जा सकता। हम अमेरिकी इंडस्‍ट्री, इम्‍प्‍लॉइज और कम्‍युनिटी को ऐसे अनफेयर इम्‍पोर्ट से बचाने के लिए लगातार कदम उठाते रहेंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट