बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalयहां बिटकॉइन की भी हो गई डकैती, मारा-पीटा और ले उड़े 11 करोड़

यहां बिटकॉइन की भी हो गई डकैती, मारा-पीटा और ले उड़े 11 करोड़

वर्चुअल करंसी बिटकॉइन के डकैती की एक वारदात ताइवान में सामने आई है। इस देश में बिटकॉइन रॉबरी का अपनी तरह का पहला मामला ह

1 of

ताइपेई. क्‍या किसी वर्चुअल चीज की डकैती हो सकती है। यदि आपको लग रहा है कि ऐसा मुमकिन नहीं है तो आप गलत हैं। वर्चुअल करंसी बिटकॉइन के डकैती की एक वारदात ताइवान में सामने आई है। इस देश में बिटकॉइन रॉबरी का अपनी तरह का पहला मामला है। डकैतों ने 50 लाख ताइवानी डॉलर (1.70 लाख अमेरिकी डॉलर) यानी करीब 11 करोड़ रुपए ले उड़े। हालांकि, राहत की बात यह रही कि ताइवान पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। 

 

ताइवान पुलिस का कहना है कि करीब 20 साल उम्र वाले तीन लड़कों ने ताईचंग सिटी में ताई नामक एक व्‍यक्ति यह लालच दिया कि वह बिटकॉइन खरीदना चाहते हैं। ताई ने उन्‍हें अपने फोन में बिटकॉइन का प्रुफ दिखाया। इसके बाद इन लड़कों ने ताई और उसके दोस्‍त पर हमला कर दिया। उन्‍होंने 50 लाख ताइवानी डॉलर मूल्‍य के 18 बिटकॉइन ताई के अकाउंट से अपने फोन में ट्रांसफर कर लिए। संदिग्‍धों ने इस डकैती को शराब के चक्‍कर में हुई घटना बनाने का प्रयास किया। 

 

बिटकॉइन रॉबरी का पहला केस 

पुलिस के बयान के अनुसार, वारदात की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने एक व्‍यक्ति को हिरासत में लिया। जबकि दो अन्‍य भाग निकले। पुलिस को मौके पर खून के धब्‍बे मिले। आगे की जांच के बाद पुलिस ने इस मामले को बिटकॉइन वर्चुअल करंसी की डकैती बताया है। यह वारदाता इस माह के शुरुआत की है और पुलिस ने इसे देश में बिटकॉइन रॉबरी की पहली वारदात बताया। बाद में प पुलिस ने दो अन्‍य संदिग्‍धों को भी गिरफ्तार कर लिया। जबकि, इस पूरे मामले के मास्‍टरमाइंड चौथे व्‍यक्ति को भी पुलिस ने पकड़ लिया है। रिपोर्ट्स में यह कहा जा रहा है कि पिछले महीने हथियारों के बल पर पहली बिटकॉइन रॉबरी हुई। जिसमें एक वर्चुअल करंसी ट्रेडर और उसकी पत्‍नी से बंदूक की नोंक पर बिटकॉइन लूटी गई। 

 

आगे पढ़ें... क्‍या है बिटकॉइन? 

 

क्‍या है बिटकॉइन 
दरअसल, बिटकॉइन एक वर्चुअल करंसी है। जिसे कम्‍प्‍यूटर कोड के जरिए तैयार किया जाता है, जिससे पहचान सार्वजनिक किए ट्रांजैक्‍शन किया जाता है। 2009 से इसकी वैल्‍यू में बेतहासा तेजी दर्ज की है। बिटकॉइन या अन्‍य दूसरी क्रिप्‍टोकरंसी सरकारों और बैंकों के नियंत्रण में नहीं है। इस वर्चुअल करंसी में ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी का इस्‍तेमाल होता है, जिसके जरिए इनक्रिप्‍टेड डिजिटल कॉइन सुपरकम्‍प्‍यूटर्स के जरिए तैयार किए जाते हैं। हालांकि, दुनियाभर से वर्चुअल करंसी को रेग्‍युलेशन के दायरे में लाने की आवाजें उठ रही हैं। हाल के महीनों में किटकॉइन की कीमतों में भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिला है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट