Home » Economy » InternationalIMF chief Christine Lagarde warning against China

'सिल्‍क रोड' के नाम पर दूसरे देशों पर कर्ज लाद रहा चीन, IMF ने चेताया

IMF प्रमुख क्रिस्टीना लेगार्ड ने चीन को चीन में ही उसकी कारोबारी कारस्‍तानियों पर खरी-खरी सुनाई।

1 of

बीजिंग. इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (IMF) प्रमुख क्रिस्टीना लेगार्ड ने चीन को चीन में ही उसकी कारोबारी कारस्‍तानियों पर खरी-खरी सुनाई। लेगार्डे ने चीन को चेताया कि महत्वाकांक्षी ग्लोबल ट्रेड इन्फ्रास्ट्रक्चर के नाम पर दूसरे देशों पर कर्ज का बोझ लादा जा रहा है जो उनके लिए मुसीबत बन जाएगा। लेगार्ड ने यह बयान एक बीजिंग फोरम में दिया।

चीनी प्रेसिडेंट शी जिनपिंग का बेल्‍ट एंड रोड इनिशटिव प्रोजेक्‍ट 1 लाख करोड़ डॉलर का है। इसके तहत एशिया से अफ्रीका और यूरोप तक दर्जनों देशों में रेल और कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्‍ट्स पर काम चल रहा है। अधिकतर बड़े प्रोजेक्‍ट चीन की सरकारी कंपनियां बना रही हैं और चीन इसके लिए लोन दे रहा है। इससे वे देश बीजिंग के अरबों डॉलर के कर्ज में आ रहे हैं। 

 

कर्ज का मैनेजमेंट बिगड़ जाएगा 
चीन के लोगों और विदेशी अधिकारियों के सामने लेगार्डे ने कहा कि 'इन वेंचर्स की वजह से कर्ज में बेहताशा बढ़ोत्‍तरी हो सकती है। कर्ज बढ़ने की वजह से दूसरे मदों पर खर्च सीमित हो जाएगा और यह पेमेंट चुनौती उत्पन्न कर रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसे देशों में जहां आम लोगों पर पहले ही बहुत कर्ज है, फाइनेंस की शर्तों का सावधानीपूर्वक मैनेजमेंट महत्वपूर्ण है। 

 

यह फ्री लंच नहीं है: लेगार्डे 
लेगार्डे ने कहा कि यह फ्री लंच नहीं है। यह ऐसी चीज है कि सभी कूद पड़ते हैं। यह मधुमक्खियों के लिए मधु नहीं है। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि बड़े कर्ज वाले प्रोजेक्‍ट्स अधिकारियों के लिए भ्रष्टाचार के मौके भी लाते हैं। बेल्ड एंड रोड प्रोजेक्ट्स का संचालन करने वाले कई अधिकारियों के सामने लेगार्ड ने कहा कि प्रोजेक्‍ट्स के असफल होने और फंड के दुरुपयोग का खतरा हमेशा बना रहता है। लेगार्ड से पहले चीन के सेंट्रल बैंक के चीफ यी गेंग ने कहा कि चीनी बैंकों ने बेल्ट एंड रोड में शामिल देशों को सस्ते दर पर लोन उपलब्ध कराने में बड़ी सफलता मिली है। 

 

श्रीलंका को लीज पर देना पड़ा हंबनटोटा

श्रीलंका जैसे देश पहले ही कर्ज में काफी डूब चुके हैं और उनके पास अब कीमती संपत्तियों को बीजिंग को सौंपने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। श्रीलंका के मामले में उसे हंबनटोटा पोर्ट कर्ज चुकाने के लिए लंबे समय के लिए लीज पर देना पड़ा। लेगार्डे ने ऐसी समस्‍याओं से बचने के लिए सभी  पक्षकारों के साथ पारदर्शिता और सहयोग की बात कही है। 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट