बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalकुक को जुकरबर्ग का जवाब- फेसबुक अगर पैसे लेने लगे तो हर यूजर नहीं उठा पाएगा बोझ

कुक को जुकरबर्ग का जवाब- फेसबुक अगर पैसे लेने लगे तो हर यूजर नहीं उठा पाएगा बोझ

डाटा लीक और पर्सनल जानकारियों के गलत इस्‍तेमाल पर दिग्‍गज कंपनियों के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है।

1 of

 

सैन फ्रांसिस्‍को. डाटा लीक और पर्सनल जानकारियों के गलत इस्‍तेमाल पर दो दिग्‍गज अमेरिकी कंपनियों के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। एप्‍पल के सीईओ टिम कुक की तरफ से फेसबुक के डाटा कलेक्‍शन और उसे एडवर्टाइजर्स को बेचने के आरोपों पर फेसबुक के को-फाउंडर मार्क जुकरबर्ग ने जवाब दिया है। सोमवार को एक इंटरव्‍यू में जुकरबर्ग ने कहा कि टिम कुक की ओर से हाल ही में उन पर लगाए गए आरोप निराधार हैं। उन्होंने कहा कि फेसबुक सिर्फ अमीरों के लिए नहीं है। अगर इसकी सर्विसेज के लिए यूजर्स से शुल्क लेने लगे तो यह बोझ हर कोई नहीं उठा पाएगा। इसके साथ ही जुकरबर्ग ने अपने विज्ञापन पर आधारित बिजनेस मॉडल का बचाव भी किया।

 

जुकरबर्ग का पलटवार 

मार्क जुकरबर्ग ने कहा, "हकीकत यह है कि अगर आप एक ऐसी सर्विस तैयार करते हैं, जो दुनिया में हर एक को जोड़ती है, तब ऐसे कई लोग होते हैं जो पैसा नहीं चुका सकते। विज्ञापन आधारित बिजनेस मॉडल एक तरीका है, क्योंकि अगर फेसबुक अपनी सर्विसेज के लिए शुल्क लगाने लगे तो सभी यह बोझ नहीं उठा सकेंगे। इंटरव्‍यू में जुकरबर्ग ने कहा कि विज्ञापन पर निर्भरता के बावजूद फेसबुक 'लोगों की सेवा' के लिए प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने कहा, यदि आप लोगों की सेवा करना चाहते हैं तो इसका मतलब यह नहीं कि वह केवल अमीरों के लिए हो। यानी आपके पास कुछ ऐसा होना चाहिए जिसका लाभ सभी लोग उठा सके। 

 

कुक ने कहा था- खराब है फेसबुक की डाटा कलेक्‍शन तकनीक 
पिछले महीने एप्‍पल के सीईओ टिम कुक ने रीकोड एंड एमएसएनबीसी इंटरप्‍यू में सोशल मीडिया पर रेगुलेशन बढ़ाने की बात कही थी। साथ ही उन्‍होंने यूजर्स के डाटा का इस्‍तेमाल कर पैसे कमाने के इनके तरीके पर सवाल खड़े उठाए थे। उन्‍होंने कहा था कि सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म यूजर का डाटा विज्ञापनदाताओं को बेच देती हैं ,जिससे कि वे टारगेट स्‍पेसिफिक ग्रुप्‍स को अपने ऐड दिखा सके। कुक ने फेसबुक के बारे में कहा था, "फेसबुक की डेटा कलेक्शन तकनीकें खराब हैं, जिसमें यूजर्स से बहुत सारी पर्सनल जानकारियां ली जाती हैं और उनको जमाकर एडवर्टाइजर्स को बेचा जाता है। अगर हम भी अपने कंस्टमर्स की जानकारियों को ऐसे भुनाने लगें तो काफी पैसा कमा सकते हैं, लेकिन हम ऐसा कभी नहीं करेंगे।"

 

अमेरिकी चुनाव में लगा डाटा लीक का आरोप 
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान करीब 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के पर्सनल डाटा के गलत इस्तेमाल का मामला सामने आया था। इसमें राजनीतिक सलाहकार कंपनी कैम्ब्रिज एनॉलिटिका को फेसबुक यूजर्स का डाटा बेचने का आरोप लगा था। इस चुनाव के बाद डोनॉल्‍ड ट्रम्‍प अमेरिका के राष्ट्रपति बने थे। जुकरबर्ग ने इस मामले में गलती मानते हुए फेसबुक यूजर्स से माफी मांगी थी।

 

 

आगे पढ़ें... पहले भी आमने-सामने आ चुके हैं कुक-जुकरबर्ग 

 

 

पहले भी आमने-सामने आ चुके हैं कुक-जुकरबर्ग 

इससे पहले, 2015 में टिम कुक ने सिलिकॉन वैली की उन कंपनियों की आलोचना की थी जो लोगों को फ्री सर्विस देने का लालच देती हैं, लेकिन वास्तव में वे इसकी कीमत उनके पर्सनल डेटा को बेचकर वसूलती हैं। उनका सीधा इशारा फेसबुक की तरफ था। कुक के इस कमेंट का जवाब देते हुए जकरबर्ग ने कहा था कि एपल अपने ग्राहकों के हितों को नजरअंदाज करती है। अगर एपल को अपने ग्राहकों की फिक्र होती तो वे अपने प्रॉडक्ट्स इतने महंगे नहीं बेचते।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट