बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalदुनिया के सबसे सस्‍ते शहरों में हैं भारत के ये 3 शहर, जानें कौन सा है सबसे महंगा

दुनिया के सबसे सस्‍ते शहरों में हैं भारत के ये 3 शहर, जानें कौन सा है सबसे महंगा

ये शहर हैं- नई दिल्‍ली, बेंगलुरु और चेन्‍नई।

1 of

नई दिल्‍ली. दुनिया के सबसे सस्‍ते शहरो की लिस्‍ट जारी हो चुकी है। इन सबसे सस्‍ते शहरों में भारत के तीन शहरों को भी स्‍थान मिला है। ये शहर हैं- नई दिल्‍ली, बेंगलुरु और चेन्‍नई। यह लिस्‍ट इकोनॉमिस्‍ट इंटेलीजेंस यूनिट (EIU) के वर्ल्‍डवाइड कॉस्‍ट ऑफ लिविंग 2018 सर्वे से सामने आई। सर्वे की रिपोर्ट में सीरिया की राजधानी दमिश्‍क दुनिया का सबसे सस्‍ता शहर बनकर उभरी, वहीं लगातार पांचवे साल सिंगापुर सबसे महंगा शहर रहा।

 

सर्वे के मुताबिक, दक्षिण एशियाई शहर, विशेषकर भारत और पाकिस्‍तान के शहर काफी ज्‍यादा किफायती हैं। सबसे सस्‍ते 10 शहरों में दमिश्‍क के बाद दूसरे और तीसरे नंबर पर क्रमश: वेनेजुएला की राजधानी कराकास और कजाखस्तान का बिजनेस सेंटर कहलाने वाला अल्‍माटी है। इस लिस्‍ट में लागोस को चौथा, बेंगलुरु को पांचवां, कराची को छठां, अल्‍जीर्स को सातवां, चेन्‍नई को आठवां, बुखारेस्‍ट को नौवां और नई दिल्‍ली को 10वां स्‍थान हासिल हुआ है। 

 

आगे पढ़ें- और क्‍या है रिपोर्ट में 

भारत में व्‍यक्ति वेतन और खर्च की ग्रोथ है कम 

रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में काफी तेजी से इकोनॉमी का विस्‍तार हो रहा है लेकिन अभी भी यहां प्रति व्‍यक्ति वेतन और खर्च की ग्रोथ कम है। इसकी वजह से यहां अभी भी इन बड़े शहरों में रहना सस्‍ता है। ग्रामीण उत्‍पादकों द्वारा सामानों की सस्‍ती और बहुतायत में सप्‍लाई और सरकार की ओर से कुछ उत्‍पादों पर दी जा रही सब्सिडी के चलते कीमतें अभी भी कम बनी हुई हैं। 

 

आगे पढ़ें- जोखिम भी मौजूद 

कुछ जोखिम भी मौजूद 

रिपोर्ट में आगे कहा गया कि हालांकि भारत में रहना काफी सस्‍ता बना हुआ है लेकिन अस्थिरता अभी भी रहने की लागत को घटाने में एक प्रमुख कारक बनकर उभर रही है। इसका अर्थ यह है कि दुनिया के कुछ सबसे सस्‍ते शहरों में जोखिम भी मौजूद है। 

 

आगे पढ़ें- ये हैं सबसे महंगे शहर 

ये रहे सबसे महंगे शहर 

सबसे महंगे शहरों की बात करें तो इसके टॉप 10 में सिंगापुर के बाद दूसरे स्‍थान पर पेरिस, तीसरे पर ज्‍यूरिख और चौथे पर हांगकांग रहे। उसके बाद के पायदानों पर ओस्‍लो, जेनेवा, सोल, कोपेनहेगन, तेल अवीव और सिडनी का स्‍थान रहा। 

 

आगे पढ़ें- वर्ल्‍डवाइड कॉस्‍ट ऑफ लिविंग सर्वे के बारे में 

क्‍या है वर्ल्‍डवाइड कॉस्‍ट ऑफ लिविंग सर्वे

वर्ल्‍डवाइड कॉस्‍ट ऑफ लिविंग सर्वे साल में दो बार होता है। इसमें 160 प्रॉडक्‍ट्स और सर्विसेज के तहत 400 से ज्‍यादा इंडीविजुअल प्राइसेज की तुलना की जाती है। इन प्रॉडक्‍ट्स व सर्विसेज में खाना-पीना, कपड़े, हाउसहोल्‍ड सप्‍लाइज, पर्सनल केयर आइटम्‍स, घर का किराया, ट्रान्‍सपोर्ट, यूटिलिटी बिल्‍स, प्राइवेट स्‍कूल, डॉमेस्टिक हेल्‍प और रिक्रिएशनल कॉस्‍ट शामिल है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट