बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalप्राइवेट जेट नहीं अब टैंक है अरबपतियों का नया शौक, कार की तरह कर रहे हैं इस्‍तेमाल

प्राइवेट जेट नहीं अब टैंक है अरबपतियों का नया शौक, कार की तरह कर रहे हैं इस्‍तेमाल

दुनिया के अमीर लोग अपने पैसों के साथ-साथ अपने महंगे शौकों के लिए भी जाने जाते रहे हैं।

1 of

नई दिल्‍ली. दुनिया के अमीर लोग अपने पैसों के साथ-साथ अपने महंगे शौकों के लिए भी जाने जाते रहे हैं। फिर वह शौक महंगे घरों को हो या प्राइवेट जेट का। इन सभी शौको से आगे बढ़ते हुए अब दुनिया के अमीर लोगों ने लग्‍जरी टैंक खरीदने का शौक शुरू किया है। सीएनबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के अरबपति अब महंगे और सुरक्षा फीचर्स से लैस टैंकों को खरीद रहे हैं। वे इन्‍हें केवल घर में खड़ा करने के लिए या लोगों को दिखाने के लिए नहीं ले रहे हैं, बल्कि इन्‍हें व्‍यक्तिगत तौर पर इस्‍तेमाल भी कर रहे हैं। आइए जानते हैं कि आखिर कितना महंगा है अरबपतियों का यह नया शौक और क्‍या है इसे पूरा करने की वजह-  

 

क्‍यों आ रहे पंसद

अरबपतियों का झुकाव लग्‍जरी टैंकों की ओर बढ़ने की वजह है टैंकों का किसी भी तरह की जमीन पर चलने में सक्षम होना। टैंक मिट्टी से लेकर कीचड़ तक और बर्फ से लेकर पत्‍थरों तक हर तरह की जमीन पर बिना किसी रुकावट चल सकता है। साथ ही इसके सुरक्षा फीचर्स की वजह से अरबपतियों के लिए ये सेफ हैं। ये टैंक मिलिट्री ग्रेड के हैं और इन्‍हें आसानी से नष्‍ट नहीं किया जा सकता है। 

 

खरीदारों में दुबई के क्राउन प्रिन्‍स भी शामिल 

इन टैंकों के खरीदार अरबपतियों में दुबई के क्राउन प्रिन्‍स हमदान बिन मोहम्‍मद अल मकतौम भी शामिल हैं। मकतौम ने इन टैंकों के एक पूरे बेड़े को व्‍यक्तिगत इस्‍तेमाल के लिए खरीदा है।  

 

आगे पढ़ें- कितनी है इन लग्‍जरी टैंकों की कीमत 

कितनी है कीमत

अरबपतियों का यह शौक भी उनके बाकी शौकों की तरह ही महंगा है। जिन टैंकों को अरबपति खरीद रहे हैं, उनका नाम रिप्‍सॉ है। रिप्‍सॉ के सिंगल सीट बेसिक मॉडल EV2 की कीमत 3.16 करोड़ रुपए से ज्‍यादा है। वहीं टू सीटर की कीमत 3.48 करोड़ और फोर सीटर की कीमत 3.80 करोड़ रुपए से ज्‍यादा है। 

 

आगे पढ़ें- क्‍या है इनकी खासियत

क्‍या-क्‍या है खासियत 

रिप्‍सॉ टैंक 60 एमपीएच की स्‍पीड से चलते हैं। ये पूरी दुनिया में सबसे तेज ड्युअल ट्रैक व्‍हीकल हैं। इन टैंकों में प्रीमियम फीचर्स यानी पुख्‍ता सुरक्षा व्‍यवस्‍था पहले से मौजूद नहीं हैं। इसके लिए ग्रा‍हक को एक्‍स्‍ट्रा पैसे देने पड़ते हैं। अलग से और खर्चा कर इन टैंकों में बेहतर नाइट विजन के लिए इन्‍फ्रारेड थर्मल इमेजिंग, कस्‍टम बिल्‍ट आर्मर जैसे फीचर्स को कस्‍टमाइज कराया जा सकता है। 

 

आगे पढ़ें- कौन है रिप्‍सॉ का मैन्‍युफैक्‍चरर 

कौन हैं इन टैंकों को बनाने वाले

लग्‍जरी रिप्‍सॉ टैंकों को बनाने वाले दो जुड़वां भाई माइकल और जियॉफ होव हैं। उनकी कंपनी का नाम होव एंड होव टेक्‍नोलॉजीज है। उन्‍होंने सबसे पहले 2001 में पहला रिप्‍सॉ टैंक अमेरिकी आर्मी के लिए बनाया था। लेकिन अब वे इसे अन्‍य लोगों के लिए भी बना रहे हैं। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट