Home » Economy » Internationalठंडा पड़ रहा बिटकॉइन, अब छा रही है यह क्रिप्‍टोकरेंसी - Another Big Cryptocurrency Is Pushing Record Highs Again

बिटकॉइन हुआ पुराना, अब यह क्रिप्‍टोकरेंसी बना रही है रिकॉर्ड

अपनी तेजी से बढ़ती कीमत के कारण पिछले साल खासी चर्चा में रहे बिटकॉइन की चमक अब कम हो रही है।

1 of

नई दिल्‍ली. अपनी तेजी से बढ़ती कीमत के कारण पिछले साल खासी चर्चा में रहे बिटकॉइन की चमक अब कम हो रही है। वजह है इस क्रिप्‍टोकरेंसी के गिरते दाम। बिटकॉइन का मार्केट जितनी तेजी के साथ ऊपर चढ़ा, अब उसी तेजी से नीचे भी आ रहा है। सोमवार को बिटकॉइन की कीमत 8000 डॉलर (5.14 लाख रुपए) से भी नीचे चली गईं, जबकि दिसंबर 2017 में यह 20,000 डॉलर (12.86 लाख रुपए) तक पहुंच गया था। 

एक तरफ जहां बिटकाइॅन व इसके जैसी कुछ और क्रिप्‍टोकरेंसी जैसे, रिपल, बिटकॉइन कैश  आदि का बाजार ठंडा पड़ रहा है, वहीं दूसरी ओर एक ऐसी क्रिप्‍टोकरेंसी भी है, जो इस वक्‍त भी ग्रोथ दर्ज कर रही है। यह क्रिप्‍टोकरेंसी है इथेरियम। 

 

आगे पढ़ें- अभी बिटकॉइन से कम ही है कीमत 

 

यह भी पढ़ें- बिटकॉइन इन्‍वेस्‍टमेंट पर टैक्‍स वसूलेगी सरकार, जारी किए लाखों नोटिस

फिलहाल बिटकाइॅन के मुकाबले कम है कीमत

इथेरियम की कीमत फिलहाल 698.30 डॉलर (44,890 रुपए) है। भले ही यह कीमत बिटकॉइन के मुकाबेल काफी कम है लेकिन ट्रे‍डर्स का अनुमान है कि आने वाले वक्‍त में इथेरियम में बहुत ज्‍यादा ग्रोथ आएगी। इसकी वजह है कि पिछले कुछ महीनों से इथेरियम की प्राइस में तेजी देखने को मिली है। वहीं बिटकॉइन की कीमत में पिछले 4 दिनों में तीन बार 8000 डॉलर के स्‍तर के नीचे जा चुकी हैं। 

 

आगे पढ़ें- क्‍या है दोनों क्रिप्‍टोकरेंसी में अंतर

 

यह भी पढ़ें- बिटकॉइन के खिलाफ फेसबुक ने खोला मोर्चा, उठाया ये सख्‍त कदम

इस मामले में बिटकॉइन से अलग है इथेरियम

इंक डॉट कॉम के एक आर्टिकल के मुताबिक, इथेरियम की ब्‍लॉकचेन बिटकॉइन की ब्‍लॉकचेन से ज्‍यादा पावरफुल है। बिटकाइॅन को केवल एक करेंसी के रूप में डिजाइन किया गया है, वहीं इथेरियम एक ऐसे प्‍लेटफॉर्म के रूप में काम कर रहा है, जहां हर तरह की एप्‍लीकेशंस रन कर सकती हैं। 

दिसंबर और जनवरी में क्‍या रहा ट्रेंड 

बिटकॉइन की बात करें तो दिसंबर की शुरुआत में यह क्रिप्‍टोकरेंसी 9,829. 99 के स्‍तर पर थी और दिसंबर अंत तक 13064.89 डॉलर पर पहुंच गई लेकिन जनवरी अंत तक यह गिरकर वापस 9,759.02 के स्‍तर पर आ गई। 

 

वहीं इथेरियम ने दोनों महीनों में ग्रोथ दर्ज की। दिसंबर की शुरुआत में यह 468.94 डॉलर पर था और माह अंत तक 721.45 डॉलर पर पहुंच गया। जनवरी में इसने 780.49 डॉलर से 1,076.74 डॉलर तक का सफर तय किया। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट