Home » Economy » InternationalIndia ranks 4th in Asia-Pacific on power index

एशिया-पैसेफिक रीजन में भारत चौथा सबसे पावरफुल देश: रिपोर्ट

रिपोर्ट के मुताबिक, भारत भविष्‍य की दिग्‍गज पावर बनने की ओर आगे बढ़ रहा है

1 of
न्‍यूयॉर्क. भारत एशिया-पैसेफिक रीजन में चौथा पावरफुल देश बन गया है। यह बात एक ताजा रिपोर्ट से सामने आई है। ऑस्‍ट्रेलिया के लॉवी इंस्‍टीट्यूट एशिया पावर इंडेक्‍स में एशिया-पैसेफिक के 25 देशों और टेरीटेरीज का आकलन किया गया, जिसमें भारत की रैंकिंग 4 रही। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत भविष्‍य की दिग्‍गज पावर बनने की ओर आगे बढ़ रहा है लेकिन डिफेंस नेटवर्क और इकोनॉमिक रिलेशनशिप के मोर्चे पर अभी भी सुधार किए जाने की जरूरत है। 

 
किसी भी देश की पावर का आकलन 8 चीजों के तहत किया जाता है। इनमें इकोनॉमिक रिसोर्स, सैन्‍स क्षमता, लचीलापन, फ्यूचर ट्रेंड्स, राजनयिक प्रभाव, इकोनॉमिक रिलेशनशिप, डिफेंस नेटवर्क और सांस्‍कृतिक प्रभाव शामिल हैं। इकोनॉमिक रिसोर्स, सैन्‍य क्षमता, राजनयिक प्रभाव के मामले में भारत की रैंकिंग चौथी रही लेकिन लचीलेपन के मामले में भारत पांचवां रहा। सांस्‍कृतिक प्रभाव और फ्यूचर ट्रेंड में भारत का स्‍थान तीसरा रहा। सबसे खराब प्रदर्शन इकोनॉमिक रिलेशनशिप और डिफेंस नेटवर्क में दर्ज किया गया, जिनमें भारत की रैंकिंग क्रमश: 7वीं और 10वीं रही। 
 

ऐसे होता है इकोनॉमिक रिलेशनशिप व डिफेंस नेटवर्क में आकलन 

इंस्‍टीट्यूट के मुताबिक, इकोनॉमिक रिलेशनशिप को देश या टे‍रिटेरीज की अन्‍य इकोनॉमीज के साथ परस्‍पर निर्भरता, व्‍यापारिक रिश्‍तों, इन्‍वेस्‍टमेंट समझौतों और इकोनॉमिक डिप्‍लोमैसी के जरिए प्रभावित करने की क्षमता के आधार पर मापा जाता है। डिफेंस नेटवर्क, डिफेंस पार्टनरशिप होती हैं, जो सैन्‍य क्षमता में बढ़ोत्‍तरी के तौर पर काम करती हैं। इनका सहयोग, नॉन अलाइड पार्टन‍रशिप और आर्म्‍स ट्रांसफर के जरिए आकलन किया जाता है।  
 

जापान स्‍मार्ट पावर, भारत भविष्‍य की दिग्‍गज पावर 

रिपोर्ट में कहा गया कि पावर के मामले में सबसे ज्‍यादा हिस्‍सेदारी जापान और भारत की है। जापान जहां एक स्‍मार्ट पावर है, वहीं भारत भविष्‍य का पावर दिग्‍गज है। यह भी सामने आया कि एशिया में अमेरिका अभी भी सबसे पावरफुल देश बना हुआ है, वहीं चीन उभरती सुपरपावर है, जो बड़ी ही तेजी से अमेरिका की बराबरी पर पहुंच रहा है। 
 

एशिया का इकोनॉमिक बदलाव ग्‍लोबल पावर डिस्‍ट्रीब्‍यूशन को दे रहा नया आकार 

इंस्‍टीट्यूट के मुताबिक, दुनिया की 4 सबसे सबसे बड़ी इकोनॉमी में से तीन एशिया में मौजूद हैं। 2025 तक दुनिया की दो-तिहाई आबादी एशिया में रहने लगेगी। एशिया का इकोनॉमिक बदलाव ग्‍लोबली पावर डिस्‍ट्रीब्‍यूशन को नया आकार दे रहा है और रीजन को बदल रहा है। 
 

2016 और 2030 के बीच 169 फीसदी ग्रोथ करेगा भारत 

रिपोर्ट में कहा गया कि भारत एशिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाली इकोनॉमी बनने की ओर अग्रसर है। अनुमान है कि इसकी ग्रोथ 2016 और 2030 के बीच 169 फीसदी रहेगी। यह भी अनुमान है कि 2030 तक भारत की कामकाजी उम्र वाली आबादी में 16.9 करोड़ लोग जुड़ जाएंगे। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट