विज्ञापन
Home » Economy » InternationalPulwama Attack: India preparing dossier to blacklist Pakistan

भारत की इस कार्रवाई से पाई-पाई को मोहताज हो जाएगा पाकिस्तान, लग जाएंगे कई आर्थिक प्रतिबंध

पेरिस में 17-22 फरवरी तक होने वाली बैठक में भारत चलेगा अगला दांव

1 of

 

मनी भास्कर नई दिल्ली।

पुलवामा हमले का बदला देने के लिए भारत सरकार पाकिस्तान को पाई-पाई का मोहताज कर देना चाहती है ताकि पाकिस्तान आतंकवादी संगठनों को मदद नहीं कर सके। पाकिस्तान की कमर तोड़ने के लिए भारत अगला दांव चलने जा रहा है। भारत यह दांव फ्रांस की राजधानी पेरिस में होने वाली बैठक में चलने जा रहा है। पेरिस में फाइनेंसियल एक्शन टास्क फोर्स (फाटफ) की बैठक चल रही है जिसमें भारत पाकिस्तान के खिलाफ आर्थिक कार्रवाई करने की मांग करने जा रहा है।

 

ब्लैक लिस्ट में डाला जा सकता है पाकिस्तान 

पाकिस्तान अपनी करतूतों की वजह से पहले से ही अपनी छवि को फाटफ की नजरों में धूमिल कर चुका है। आतंकवादी संगठनों को आर्थिक मदद देने की वजह से फाटफ पिछले साल जून में पाकिस्तान को ग्रे एरिया में डाल दिया था और अपनी करतूतों को बंद नहीं करने पर इस साल अक्टूबर तक पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट करने की चेतावनी दी थी। वित्त मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक पुलवामा हमले के बाद भारत सरकार पाकिस्तान की करतूतों को उजागर करके पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट में डलवा देगा। इससे पाकिस्तान की आर्थिक कमर टूट जाएगी। पुलवामा हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली जो पाकिस्तान समर्थित फंड पर चलता है।

भारत FATF को पाक के करतूतों की लिस्ट सौंगेपा 

भारत जल्द ही आतंकी गतिविधियों की फाइनेंसिंग पर नजर रखने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था एफएटीएफ को एक डॉजियर सौंपेगा। इस डोजियर में पुलवामा आतंकी हमले को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ सबूत सौंपे जाएंगे। भारत की कोशिश एफएटीएफ की तरफ से पाक को ब्लैकलिस्ट कराने की होगी। एफएटीएफ की ओर से किसी देश को ब्लैकलिस्ट करने का मतलब है कि वह देश मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकी गतिविधियों के लिए फंडिंग के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में सहयोग नहीं कर रहा है

 

 

 

पाक की आर्थिक सहायता हो सकती है बंद 

अगर एफएटीएफ पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट कर देता है तो इससे आईएमएफ, वर्ल्ड बैंक, यूरोपीय संघ जैसे बहुपक्षीय कर्जदाता उसकी ग्रेडिंग कम कर सकते हैं।लिहाजा दुनियाभर के देशों की ओर से आर्थिक सहायता मिलने का रास्ता पूरी तरह से बंद हो जाएगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन