बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Internationalमेहुल चौकसी को पकड़ने की कवायद तेज, भारत ने एंटीगुआ से कहा- किसी भी तरह देश से बाहर न जाने पाए

मेहुल चौकसी को पकड़ने की कवायद तेज, भारत ने एंटीगुआ से कहा- किसी भी तरह देश से बाहर न जाने पाए

एंटीगुआ में चौकसी की मौजूदगी की खबर मिलने के बाद वहां की सरकार से लगातार संपर्क में है भारत...

India had asked Antigua to detain Choksi after info of his presence on island, India requested Antigua to restrict Mehul Choksi movement by land, air or sea
नई दिल्‍ली. PNB फ्रॉड में आरोपी मेहुल चौकसी के एंटीगुआ में होने की सूचना मिलने के बाद भारत ने अपना शिंकजा कसना शुरू कर दिया है। भारत ने एंटीगुआ और बरबूडा के प्रशासन से चौकसी को वहीं रोककर रखने की अपील की है। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, भारत लगातार एंटीगुआ के साथ संपर्क में है और वहां के प्रशासन से अपील की गई है कि मेहुल चौकसी को जमीन, पानी या हवाई किसी भी रास्‍ते से देश से बाहर न जाने दिया जाए। 
 
बता दें कि मेहुल चौकसी ने एंटीगुआ का पासपोर्ट हासिल कर लिया है और इसी महीने अमेरिका से एंटीगुआ पहुंचे हैं। सूत्रों ने बताया कि जैसे ही विदेश मंत्रालय को चौकसी के एंटीगुआ में हो सकने की खबर मिली, जॉर्जटाउन में मौजूद हमारे हाई कमीशन ने एंटीगुआ और बरबूडा सरकार को सतर्क कर दिया। हाई कमीशन ने दोनों सरकारों से चौकसी की उनके क्षेत्र में मौजूदगी की पुष्टि करने को कहा। साथ ही यह भी अपील की गई कि दोनों देश मेहुल चौकसी को अपने क्षेत्र से जमीन, हवाई या पानी किसी भी रास्‍ते से बाहर न जाने दें।  
 

चौकसी ने बिजनेस विस्‍तार का दिया था हवाला

बता दें कि पिछले हफ्ते चौकसी ने दावा किया था कि उन्‍होंने अपने बिजनेस के विस्‍तार के लिए पिछले साल एंटीगुआ की नागरिकता हासिल की थी। इसकी एक वजह यह भी बताई गई कि एंटीगुआ का पासपोर्ट 132 देशों को वीजा फ्री ट्रैवल करने की सुविधा देता है।
 

मामले में क्‍या हो रहा है इसकी लेते रहेंगे जानकारी

सूत्रों का कहना है कि हमारे हाई कमिश्‍नर सोमवार को एंटीगुआ और बरबूडा प्रशासन से मीटिंग कर रहे हैं। हम इस मामले में आगे क्‍या हो रहा है, इसे लेकर संबंधित GOI एजेंसियों और एंटीगुआ व बरबूडा की सरकारों से लगातार संबंध बनाए रखेंगे।   
 

जनवरी में सामने आया था 13,000 करोड़ रुपए का घोटाला

बता दें कि 13,000 करोड़ रुपए के PNB घोटाले के दोनों मुख्‍य आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) और सीबीआई दोनों ने मुकदमे दर्ज कर रखे हैं। 2011 में शुरू हुआ यह घोटाला जनवरी 2018 में सामने आया और उसके बाद PNB के अधिकारियों ने जांच एजेंसियों को सूचित किया। नीरव मोदी और मेहुल चौकसी इस घोटाले के सामने आने से 15 दिन पहले ही भारत से फरार हो गए थे।  
 

हाल ही मे मॉब लिंचिंग होने का बनाया था बहाना

हाल ही में चौकसी ने स्‍पेशल PMLA कोर्ट में अपने खिलाफ जारी गैर-जमानती वारंट को रद्द किए जाने की मांग की थी। चौकसी का कहना था कि कि अगर मुझे भारत लाया गया तो जनता मार डालेगी। देश में मेरे खिलाफ काफी गुस्सा है। इनमें चौकसी के पूर्व कर्मचारी, कर्जदाता, जेल कर्मचारी और कैदी शामिल हैं। 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट