विज्ञापन
Home » Economy » InternationalIndia export to china increase by 31 percent in fiscal 2018-19

रंग लाई मोदी सरकार की मेहनत, अब चीन से हो रही ज्यादा कमाई

भारतीय कारोबारियों ने एक साल में 4 अरब डॉलर ज्यादा कमाए

India export to china increase by 31 percent in fiscal 2018-19

India export to china increase by 31 percent in fiscal 2018-19: आंकड़ों के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में जनवरी तक चीन को भारतीय निर्यात में 31 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। यह आंकड़ा 10 अरब डालर से बढ़कर 14 अरब डालर तक पहुंच गया है। वहीं इसी अवधि में चीन से होने वाले आयात में 24 प्रतिशत की गिरावट आई है।

नई दिल्ली। व्यापार घाटा कम करने के प्रयासों में जुटी केंद्र की मोदी सरकार की मेहनत अब रंग ला रही है। ताजा आंकड़ों के अनुसार भारत का चीन के लिए निर्यात बढ़ रहा है, जबकि आयात में उल्लेखनीय गिरावट आई है। चीन के साथ व्यापार संतुलन बनाने के लिए भारत ने पिछले कुछ महीनों में लगातार प्रयास किए है और इस मुद्दे को दोनों देशों के प्रत्येक बातचीत में उठाया जाता रहा है। 

भारतीय निर्यात में 31 प्रतिशत की बढ़ोतरी
आंकड़ों के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में जनवरी तक चीन को भारतीय निर्यात में 31 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। यह आंकड़ा 10 अरब डालर से बढ़कर 14 अरब डालर तक पहुंच गया है। वहीं इसी अवधि में चीन से होने वाले आयात में 24 प्रतिशत की गिरावट आई है। बीते वित्त वर्ष में चीन के साथ व्यापार घाटा भी 53 अरब डालर से कम होकर 46 अरब डालर तक आ गया है। मौजूदा आंकड़ों के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में भारतीय निर्यात के लिए चीन तीसरा सबसे बड़ा देश है जबकि आयात के लिए यह पहले स्थान पर है। दोनों देशों के आपसी व्यापार वर्ष 2001-02 के तीन अरब डालर से बढ़कर वर्ष 2017-18 तक 90 अरब डालर तक पहुंच गया है। चीन से भारत को आयात होने वाली वस्तुओं में 30 प्रतिशत इलेक्ट्रिकल्स उपकरण, मैकेनिकल उपकरण 19 प्रतिशत जैविक रसायन 12 प्रतिशत तथा अन्य शामिल हैं। चीन को निर्यात होने वाली वस्तुओं में जैविक रसायन 19.4 प्रतिशत, खनिज ईंधन 19.3 प्रतिशत और कपास 10 प्रतिशत तथा अन्य हैं।

पिछले साल से चीनी उत्पादों की मांग में कमी आई
पिछले दशक में चीन के उत्पादों ने भारतीय बाजारों में तेजी से जगह बनाई थी लेकिन वर्ष 2018-19 में इसमें उतार का रुख बन गया। पिछले कुछ वर्षों के दौरान भारत और चीन के बीच औद्योगिक निर्यात में तेजी से इजाफा हुआ है। दोनों देशों के बीच आपसी व्यापार का 53  प्रतिशत हिस्सा औद्योगिक निर्यात का है। जानकारों का कहना है कि  दुनिया में भारत जेनेरिक दवाओं का सबसे बड़ा उत्पादक देश है लेकिन चीन को  होने वाले निर्यात में इसकी हिस्सेदारी नहीं है। चीन की प्रक्रियागत बाधाएं इसका प्रमुख कारण है। हालांकि, भारतीय जेनेरिक दवाएं अमेरिका और चीन को निर्यात की जाती हैं। दोनों देशों की सीमाएं सटी हुई हैं लेकिन इसके बावजूद भी आपसी व्यापार की लागत अपेक्षाकृत ज्यादा आती है। दोनों देशों के बीच कृषि एवं प्रसंस्करित उत्पादों का व्यापार बढ़ाने के लिए प्रक्रियागत बाधाओं को दूर किया जाना जरुरी है। इससे आपसी व्यापार को प्रोत्साहन मिलेगा और लागत कम होगी। दोनों देशों के आपसी व्यापार के रुख को देखते हुए चीन के साथ व्घपार घाटा कम होने की उम्मीद है और इसका असर आने वाले सालों में दिखाई देगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन