Home » Economy » InternationalIncome gap is rapidly increasing among asian-americans in US

अमेरिका में तेजी से गरीब हो रहे हैं एशियाई, सर्वे में हुआ खुलासा

2000 से 2016 के बीच अमेरिका में 44 फीसदी बढ़ी गरीब एशियाइयों की संख्या...

Income gap is rapidly increasing among asian-americans in US

नई दिल्ली. अमेरिका में रहने वाले एशियाई मूल के लोगों के बीच आय को लेकर असमानता तेजी से बढ़ रही है। लिहाजा अमीर एशियाइयों की संख्या कम होती जा रही है और गरीब तबके के एशियाई तेजी से बढ़ रहे हैं। यह बात प्यू रिसर्च सेंटर एनालिसिस ऑफ यूएस सेंसस और अमेरिकन कम्युनिटी के ताजा सर्वे से सामने आई है। इस सर्वे के मुताबिक, अमेरिका में एशियाई मूल के लोगों के बीच आय को लेकर असमानता 1970 से 2016 की अवधि के बीच बढ़कर लगभग दोगुनी हो गई है। अमेरिका में 1970 में एशियाई-अमेरिकियों की संख्या वहां की आबादी का 1 फीसदी थी। आज यह संख्या 6 फीसदी हो गई है। 

 

बता दें कि न्यूयॉर्क में एशियाई लोग सबसे गरीब अप्रवासी ग्रुप हैं। एशियन अमेरिकन फेडरेशन के मुताबिक, साल 2000 से 2016 के बीच यानी 16 सालों की अवधि में अमेरिका में गरीब एशियाइयों की संख्या में 44 फीसदी का उछाल आया है।  साल 2000 में ऐसे एशियाइयों का आंकड़ा 1.7 लाख था, जो 2016 में बढ़कर 2.45 लाख से ज्यादा हो गया। हालांकि अभी भी अमेरिका में अमीर एशियाई सबसे ज्यादा कमाने वाले समूह में शामिल हैं। 

 

शिक्षा के भिन्न स्तर, स्किल और अंग्रेजी भाषा को वरीयता दिया जाना है वजह

सर्वे से यह भी सामने आया कि 2016 तक इनकम डिस्ट्रीब्यूशन के टॉप 10 में शामिल एशियाई-अमेरिकियों ने जो कमाई की, वह बॉटम (सबसे निचले पायदान) 10 में शामिल एशियाई लोगों के मुकाबले 1.2 लाख डॉलर ज्यादा थी। यूएस में एशियाई-अमेरिकी लोगों के बीच बढ़ रहे इस इनकम गैप की मुख्य वजह शिक्षा के अलग-अलग स्तर, स्किल और कई समूहों में अंग्रेजी भाषा को वरीयता दिया जाना है। देशों की बात करें तो अमेरिका में भारत और चीन के लोगों की आय साउथ ईस्ट एशिया के लोगों से ज्यादा है। इसकी वजह शिक्षा के उच्च स्तर हैं। 

 

स्किल बेस्ड वीजा भी बड़ा कारण

आय में असमानता का एक बड़ा कारण स्किल बेस्ड वीजा भी है। जो लोग स्किल वीजा के आधार पर अमेरिका में आते हैं, उनकी आय बिना स्किल वीजा वालों से ज्यादा रहती है। उदाहरण के तौर पर यूएस में मौजूद भारतीय और चीनी लोग उच्च शिक्षित हैं। इसके चलते वे अपने हाइली स्किल्ड लोगों को ही काम देते हैं। 

 

सोर्स- न्यूयॉर्क टाइम्स 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट