विज्ञापन
Home » Economy » InternationalIMF Demands Assurance From Pakistan, May Delay Bailout Package

IMF को पाकिस्तान पर भरोसा नहीं, बेलआउट पैकेज देने से पहले चीन को लेकर मांगी गारंटी

इस शर्त को पूरा करने के बाद ही पाकिस्तान को मिलेगी आर्थिक मदद

IMF Demands Assurance From Pakistan, May Delay Bailout Package
  • तंगहाली से गुजर रहे पाकिस्तान को आर्थिक मदद मिलने की राह में चीन बड़ा रोड़ा बनकर खड़ा हो गया है।
  • आईएमएफ ने पाकिस्तान के सामने एक शर्त रख दी है, जिसे पूरा करने के बाद ही उसे यह आर्थिक मदद मिलेगी।
  • आईएमएफ को डर है कि पाकिस्तान कहीं चीन को पैसा लौटाने में सारी रकम खर्च न कर दे।

नई दिल्ली.

चीन की दोस्ती पाकिस्तान पर भारी पड़ रही है। तंगहाली से गुजर रहे पाकिस्तान को आर्थिक मदद मिलने की राह में चीन बड़ा रोड़ा बनकर खड़ा हो गया है। पाकिस्तान लंबे समय से IMF (International Monetary Fund, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष) से बेलआउट पैकेज की डिमांड कर रहा था, लेकिन उसे ये पैकेज मिलने में देर हो सकती है। दरअसल आईएमएफ ने पाकिस्तान के सामने एक शर्त रख दी है, जिसे पूरा करने के बाद ही उसे यह आर्थिक मदद मिलेगी। आईएमएफ ने कहा है कि पाकिस्तान लिखित में गारंटी दे, कि वह इस रकम को चीन का कर्ज चुकाने में इस्तेमाल नहीं करेगा। आईएमएफ ने कहा है कि पाकिस्तान को चाइना-पाक इकॉनमिक कॉरिडोर को लेकर पारदर्शिता स्पष्ट करनी होगी।

 

इस साल पाकिस्तान को मिली है 63 हजार करोड़ की आर्थिक मदद

पाकिस्तान में बैलेंस ऑफ पेमेंट्स यानी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कारोबार के लिए आर्थिक संकट की स्थिति है। इस स्थिति से निपटने के लिए पाक ने आईएमएफ से 8 अरब डॉलर (55.5 हजार करोड़ रुपए) के आर्थिक पैकेज की मांग की है। चीन समेत कई मित्र देशों से पाकिस्तान को इस वित्त वर्ष में अब तक 9.1 अरब डॉलर (63.14 हजार करोड़ रुपए) की मदद मिल चुकी है। चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारे में चीन ने पाकिस्तान में ढेर सारा पैसा लगाया है और आईएमएफ को डर है कि पाकिस्तान कहीं चीन को पैसा लौटाने में सारी रकम खर्च न कर दे।

 

चीनी कर्ज में डूबा है पाकिस्तान

हाल ही में अमेरिका के तीन लॉमेकर्स Ted Yoho, Ami Bera और George Holding ने ट्रेजरी सेक्रेटरी Steven Mnuchin और सेक्रेटरी ऑफ द स्टेट Mike Pompeo को एक पत्र लिखकर अपनी चिंता जाहिर की है। उन्हाेंने लिखा है कि चीन पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर (CPEC) के तहत पाकिस्तान बड़े कर्ज तले डूबा हुआ है और IMF से मिलने वाली आर्थिक सहायता को वह चीन का उधार चुकाने में इस्तेमाल करेगा। इसलिए उन्होंने ट्रंप प्रशासन से मांग की है कि IMF से पाकिस्तान को मिलने वाले अरबों डॉलर की आर्थिक सहायता को रोक दिया जाए।

 

आर्थिक मदद लेकर भी सुधरा नहीं पाकिस्तान

अमेरिकी लॉमेकर्स ने अपनी चिठ्ठी में ये भी लिखा है कि IMF के साथ पाकिस्तान का इतिहास बहुत अच्छा नहीं है। पिछले 30 सालों में से 22 साल पाकिस्तान को IMF ने तकरीबन एक दर्जन बार आर्थिक मदद पहुंचाई है, लेकिन पाकिस्तान अपने में जरूरी सुधार करने से चूकता रहा है। अगर फिर से पाकिस्तान ने इस आर्थिक मदद का सही इस्तेमाल नहीं किया, तो यह चीन की अर्थव्यवस्था को मजबूत करेगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन