विज्ञापन
Home » Economy » InternationalDharmendra Pradhan asks OPEC to price oil responsibly

मोदी के बाद अब प्रधान ने दी मुस्‍लि‍म मुल्‍कों को हिदायत, ऐसे नहीं चलेगा

उन्होंने रेखांकित किया कि बाजार के कारकों के कारण दाम इतने नहीं बढ़ सकते।

Dharmendra Pradhan asks OPEC to price oil responsibly
देश में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों और इस कारण चुनावी साल में सरकार की बढ़ती चिंता के बीच पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ओपेक देशों के राजदूतों से मुलाकात कर कच्चे तेल के बढ़ते दाम पर चिंता जतायी और कहा कि उन्हें दाम बढ़ाने का फैसला जि‍म्‍मेदारी के साथ लेना चाहि‍ए। गौरतलब है कि‍ अप्रैल के पहले सप्‍ताह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ओपेक मुल्‍कों से कहा था कि‍ मनमाने ढंग से कच्‍चे तेल के दाम ना बढ़ाएं।

नई दिल्ली। देश में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों और इस कारण चुनावी साल में सरकार की बढ़ती चिंता के बीच पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ओपेक देशों के राजदूतों से मुलाकात कर कच्चे तेल के बढ़ते दाम पर चिंता जतायी और कहा कि उन्हें दाम बढ़ाने का फैसला जि‍म्‍मेदारी के साथ लेना चाहि‍ए। गौरतलब है कि‍ अप्रैल के पहले सप्‍ताह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने भी ओपेक मुल्‍कों से कहा था कि‍ मनमाने ढंग से कच्‍चे तेल के  दाम ना बढ़ाएं। 


ओपेक पेट्रोलियम निर्यातक प्रमुख देशों का संगठन है। ओपेक देशों में ईरान, इराक, कुवैत, लीबि‍या, नाइजीरि‍या, अल्‍जीरि‍या, कतर, सऊदी अरब, यूएई, वेनेजुएला सहि‍त शामि‍ल हैं जि‍नमें से ज्‍यादातर मुस्‍लि‍म देश हैं। पिछले वित्त वर्ष में देश के कुल कच्चा तेल आयात का 83 प्रतिशत, रसोई गैस आयात का 98 प्रतिशत और एलएनजी आयात का 74 प्रतिशत इन्हीं देशों से आया था। 
सीमा से बाहर चले गए हैं दाम 
बैठक के दौरान प्रधान ने कहा कि वैश्विक स्तर पर कच्‍चे तेल के दाम दुनिया के वहन करने की सीमा से बाहर चले गये हैं। उन्होंने रेखांकित किया कि बाजार के कारकों के कारण दाम इतने नहीं बढ़ सकते।

 

उन्होंने ओपेक देशों के राजदूतों से आग्रह किया कि वे अपनी सरकारों को कहें कि‍ कच्‍चे तेल के दाम बढ़ाने के मामले में वह जिम्‍मेदारी से काम लें। वह अपनी जरूतों के बारे में बताएं जिससे उत्पादक और उपभोक्ता दोनों के हितों की रक्षा की जा सके। उन्होंने एशियन प्रीमियम जैसे उपायों से भेदभाव पूर्ण मूल्य निर्धारण की बात दुहराई। उन्होंने तेल एवं गैस दोनों के लिए पारदर्शी बाजार का अनुरोध किया।


उनकी यह मुलाकात अगले सप्ताह होने वाले ओपेक अंतरराष्ट्रीय सेमिनार के परिप्रेक्ष्य में और महत्त्वपूर्ण है। यह सेमिनार 20 और 21 जून को होना है और इसमें  प्रधान भी हिस्सा लेने वाले हैं। वहां वह ओपेक के महासचिव सानुसी बार्किंदो तथा ओपेक देशों के मंत्रियों से मुलाकात करेंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss