Advertisement
Home » इकोनॉमी » इंटरनेशनलChina allows export of non Basmati rice from India

पहले ही दि‍न मोदी ने कि‍ए दो बड़े समझौते, चीन जाएगा भारत का गैर बासमती चावल

भारत और चीन के बीच शनि‍वार को दो ऐति‍हासि‍क समझौते हुए।

China allows export of non Basmati rice from India

क्विंगदाओ. भारत और चीन के बीच शनि‍वार को दो ऐति‍हासि‍क समझौते हुए। चीन बाढ़ के सीजन में ब्रह्मपुत्र नदी का हाइड्रोलॉजि‍कल डाटा बांटने पर राजी हो गया है। इसके अलावा चीन गैर बासमति चावल आयात करने को भी तैयार हो गया है। दोनों समझौतों से भारत को बड़ा फायदा पहुंचेगा।


ब्रह्मपुत्र में पानी का फ्लो बढ़ने से भारत के कई इलाकों में बाढ आ जाती है। समय पर डाटा शेयर हो जाएगा तो नुकसान को कम करने के लि‍ए पहले से योजना बनाने में मदद मि‍लेगी। वहीं गैर बासमति‍ का निर्यात करने से भारत और चीन के बीच व्‍यापार घाटे को कम करने में मदद मि‍लेगी। 


जि‍नपिंग से मि‍ले मोदी 
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्‍ट्रपति शी जि‍नपिंग के बीच वि‍स्‍तृत बातचीत के बाद इन समझौतों पर हस्‍ताक्षर हुए। शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनि‍‍‍‍‍वार दोपहर को चीनी पहुंच गए थे। शंघाई सहयोग संगठन की बैठक चीन के क्विंगदाओ (Qingdao) शहर में आयोजि‍त हो रही है। 

Advertisement


पि‍छले साल डाटा शेयर करना कि‍या था बंद
बीते साल डोकलाम पर 73 दि‍न तक चले वि‍वाद के बाद चीनी ने ब्रह्मपुत्र नदी के जलस्‍तर से जुड़ा डाटा शेयर करने से मना कर दि‍या था। अब चीन इस पर राजी हो गया है। समझौते के तहत चीन 15 मई से 15 अक्‍टूबर तक हर साल नदी के जल से जुड़े आंकड़े भारत को मुहैया कराएगा। अगर बाढ़ के समय से इतर भी नदी का जलस्‍तर समझौते के तहत तय हुए पानी से ज्‍यादा हो जाता है तो चीन इसकी जानकारी भारत को देगा। 
गौरतलब है कि ब्रह्मपुत्र चीन से होकर भारत में आती है। इसलि‍ए चीन के पास उसमें पानी के स्‍तर और बहाव की सटीक जानकारी होती है। 


चीन जाएगा भारत का चावल
दूसरे समझौते के तहत चीन भारत से गैर बासमती चावल का इंपोर्ट करेगा। चीन में चावल की काफी डिमांड है। भारत के कि‍सानों के लि‍ए यह बड़ी खबर है क्‍योंकि अभी तक चीन केवल भारत का बासमती चावल ही खरीदता था। भारत में चावल का प्रोडक्‍शन बीते तीन सालों से लगातार बढ़ रहा है। इस फैसले से भारत और चीन के बीच व्‍यापार घाटे को कम करने में मदद मि‍लेगी। 

Advertisement

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement