Home » Economy » InternationalAmerica indicts Chinese spy, accuses China of stealing aviation trade secrets

क्या अमेरिका को तबाह कर देगा चीन, अब अमेरिकी विमानन कंपनियों की खुफिया जानकारी हासिल करने पर जुटा

US-China rivalry: अमेरिका-चीन के बीच तनातनी बढ़ने की आशंका

1 of

नई दिल्ली। अमेरिका और चीन के बीच दुश्मनी दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। दोनों देशों के बीच ट्रेड वाॅर तो चल ही रहा है, अब अमेरिका ने चीन पर आरोप लगाया है कि चीन उसकी खुफिया जानकारी जुटाने की कोशिश कर रहा है। अमेरिका के जस्टिस डिपार्टमेंट ने हाल ही में कहा कि उन्होंने एक चीनी जासूस को पकड़ा है जो अमेरिका की विमानन और एयरोस्पेस कंपनियों से ट्रेड सीक्रेट चुराने की कोशिश कर रहा था। यह जानकारी अगर चीन के हाथ आ गई तो वह अमेरिका को कई तरीकों से नुकसान पहुंचा सकता है।

 

झूठे बहाने से निकालता था जानकारी

चीन की मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट सिक्योरिटी के इंटेलीजेंस ऑफिसर Yanjun Xu पर आरोप लगाया गया है कि वह पांच साल लंबा अभियान चला रहा था जिसमें वह अमेरिका की बड़ी विमानन कंपनियों के कर्मचारियों को बहला-फुसला देकर चीन की यात्रा पर भेजता था। उन अधिकारियों से कहा जाता था कि उन्हें चीन की यूनिवर्सिटी में प्रजेंटेशन देना होगा। इसके बाद Xu और अन्य खुफिया जासूस इन अधिकारियों से खुफिया जानकारी निकालने की योजना बनाते थे।

 

आगे पढ़ें- कई कंपनियों को बनाया निशाना

कई कंपनियों को बनाया निशाना

 

Xu ने अमेरिका के GE Aviation के एक कर्मचारी को अपना निशाना बनाया। यह कंपनी अमेरिकी बिजनेस समूह General Electric का हिस्सा है और अमेरिकी रक्षा विभाग के कॉन्ट्रैक्ट पर काम करती है। कंपनी के कर्मचारी ने प्रेजेंटेशन में कंपनी की कुछ जानकारी भेजी, जिसके बाद Xu लगातार उससे तकनीकी जानकारी मांगता रहा और यूरोप में कुछ लोगों के साथ उसकी मुलाकात कराने की भी बात की। हालांकि कंपनी ने गड़बड़ी का अहसास होते ही अमेरिकी खुफिया एजेंसी FBI से संपर्क किया, जिससे उसे ज्यादा नुकसान नहीं हो पाया।

इसके अलावा Xu पर आरोप है कि उसने दुनिया की सबसे बड़ी एयरोस्पेस कंपनियों में से एक से भी जानकारी निकालने की कोशिश की।

 

आगे पढ़ें- बिगड़ सकते हैं हालात 

 
बढ़ जाएगी चीन अमेरिका के बीच तनातनी

 

Xu को अप्रैल में बेल्जियम से गिरफ्तार किया गया था। अब जाकर अमेरिका ने इस बात की घोषणा की है। इससे पहले भी Ji Chaoqun नाम के एक चीनी व्यक्ति को एविएशन इंडस्ट्री के सीक्रेट चुराने के आरोप में अमेरिकी जस्टिस डिपार्टमेंट ने गिरफ्तार किया था। इसके चलते अंदाजा लगाया जा रहा है कि व्यापार, हैकिंग और कारपोरेट जासूसी के मुद्दे पर दोनों देशों के बीच पहले से मौजूद तनाव और बढ़ जाएगा।

 

बीजिंग ने नकार दिए आरोप

अमेरिका के आरोपों को चीन ने सिरे से खारिज कर दिया है। चीन का कहना है कि अमेरिकी प्रशासन हवा-हवाई बातें कर रहा है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने यह तक कहा कि हमें उम्मीद है कि अमेरिका इस मामले को काूनन के दायरे में रहकर ही सुलझाएगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट