Home » Economy » Internationalaircraft carrier Gerald R Ford cost greater than 180 countries military budget

180 देशों के सैन्य खर्च से कहीं ज्यादा है अमेरिका के नए एयरक्राफ्ट की कीमत

निर्माण में देरी से बढ़ी लागत

1 of

नई दिल्ली। अमेरिका के नए एयरक्राफ्ट कैरियर यूएसएस गेराल्ड आर फोर्ड (USS Gerald R Ford) को पिछले वर्ष लांच किया गया। इसे दुनिया का सबसे शक्तिशाली एयरक्राफ्ट कैरियर माना जाता है। The Spectator Index के मुताबिक इसकी कीमत दुनिया के 180 देशों के सालाना मिलिट्री खर्च से ज्यादा है। इसे बनाने में करीब 83,928 करोड़ रुपए खर्च आया है। एयरक्राफ्ट का नाम 38वें प्रेसिडेंट यूएसएस गेराल्ड आर फोर्ड के नाम पर रखा गया है। 

 

एयरक्राफ्ट की लॉन्चिंग के साल 2017 के आंकड़ों के मुताबिक मिलिट्री बजट के मामले में तुर्की दुनिया का टॉप 15वां देश हैं। इस वर्ष तुर्की का कुल वार्षिक सैन्य बजट 18.2 बिलियन डॉलर रहा। जो कि एयरक्राफ्ट की कीमत से 5.3 बिलियन डॉलर ही ज्यादा है। 

 

आगे पढ़ें- क्या है खास 

 

यह भी पढ़ें, ये हैं दुनिया के सबसे महंगे मिलिट्री व्हीकल, जानें कीमत और खासियत

क्या है ख़ास


-ये एक न्यूक्लियर एयरक्राफ्ट है। इसलिए इसमें एक बार फ्यूल भरने के बाद 20 सालों तक चलाया जा सकेगा। 
-इसका निर्माण कार्य 2009 से शुरू हुआ था और वर्ष 2017 में बनकर तैयार हुआ। 
-इसकी स्पीड 30 नॉट्स (करीब 56 किमी प्रति घंटा) है। 
-इस एयरक्राफ्ट पर 75 से ज्यादा एयरक्राफ्ट सवार हो सकते हैं। 
-ये कई घातक मिसाइल से लैस है। -इसका फ्लाइट डेक का आकार 5 एकड़ है।  
-एयरक्राफ्ट कैरियर 1106 फुट लंबा है और करीब 256 फीट चौड़ा है जबकि ऊंचाई 250 फीट है। 

 

आगे पढ़ें- निर्माण में देरी से बढ़ी लागत 

निर्माण में हुई देरी


अमेरिकी नेवी को उम्मीद थी कि एयरक्राफ्ट को वर्ष 2014 में लांच किया जाना था, उस वक्त इसके निर्माण की कीमत 70,000 करोड़ रुपए आंकी गई थी। लेकिन इसमें तीन साल की देर लगी और इसके निर्माण का खर्च 16 हजार करोड़ रु. बढ़कर 86,928 करोड़ रुपए हो गया। अमेरिका ऐसे तीन युद्धपोत बना रहा है। दो युद्धपोत 2020 और 2025 में लॉन्च होंगे। तीनों की कुल लागत 2.78 लाख करोड़ रु. (43 अरब डॉलर) आएगी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss