विज्ञापन
Home » Economy » InternationalPulwama Attack: India's action against Pakistan

नापाक पाकिस्तान के 3500 करोड़ के कारोबार पर भारत की करारी चोट, अब इन क्षेत्रों में भी लग सकते हैं प्रतिबंध

पाकिस्तान की कारोबारी कमर तोड़ने की भारतीय कसरत शुरू

1 of

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने पुलवामा हमले के बाद नापाक पाकिस्तान के कारोबार पर करारा प्रहार किया है। भारत ने पाक को व्यापारिक सजा देने के मकसद से वहां से आयातित होने वाले सभी सामानों पर 200 फीसदी सीमा शुल्क बढ़ाकर दिया है और इसे तत्काल प्रभाव से लागू करने का निर्देश दिया है। बता दें कि भारत में अभी सीमा शुल्क की दर 30 से 50 प्रतिशत और साढ़े 7.5 प्रतिशत है। 

 

पाकिस्तान को दोहरा झटका 

भारत सरकार ने आर्थिक मोर्चे पर पाकिस्तान को दूसरा झटका दिया है। इससे पहले भारत ने पाकिस्तान को दिए मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा छीन लिया था। भारत की इस कार्रवाई से पाकिस्तान के भारत को निर्यात पर बुरा असर पड़ेगा। बता दें कि साल 2017-18 में पाकिस्तान से भारत को 3,482.3 करोड़ रुपए यानी 48.85 करोड़ डॉलर का निर्यात किया गया था। 

पाकिस्तान प्रमुख तौर पर भारत को ताजे फल, सीमेंट, बड़े पैमाने पर खनिज एवं अयस्क और तैयार चमड़ा उत्पाद निर्यात करता है। इसमें भी पाकिस्तान से सबसे ज्यादा ताजे फलों और सीमेंट का आयात होता है।

भारत इन क्षेत्रों में लगा सकता है प्रतिबंध

भारत की तरफ से लगाए जाने वाले प्रतिबंधों की लिस्ट अभी और लंबी हो सकती है। इसमें भारत से पाकिस्तान को निर्यात पर रोक लगाए जाने के मकसद से पाकिस्तानी सामानों पर बंदरगाह संबंधी प्रतिबंध भी लगाए जा सकते हैं। पाकिस्तान प्रमुख तौर पर भारत को ताजे फल, सीमेंट, बड़े पैमाने पर खनिज एवं अयस्क, तैयार चमड़ा, प्रसंस्कृत खाद्य, अकार्बनिक रसायन, कच्चा कपास, मसाले, ऊन, रबड़ उत्पाद, अल्कोहल पेय, चिकित्सा उपकरण, समुद्री सामान, प्लास्टिक, डाई और खेल का सामान निर्यात करता है।

 

 

2017-18 में दोनों देशों के बीच 2.41 अरब डॉलर रहा 

भारत पाकिस्तान के बीच कुल द्विपक्षीय व्यापार 2017-18 में मामूली बढ़कर 2.41 अरब डॉलर रहा जो 2016-17 में 2.27 अरब डॉलर था। भारत ने 2017-18 में 48.85 करोड़ डॉलर का सामान पाकिस्तान से आयात किया जबकि 1.92 अरब डॉलर का सामान निर्यात किया गया। जानकारो के मुताबिक भारत की आर्थिक नाकेबंदी से पाकिस्तान में खाने समेत कई तरह की चीजे महंगी हो सकती हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन