बिज़नेस न्यूज़ » Economy » InternationalH-1B वीजाधारकों के जीवनसाथी को वर्क परमिट देने के पक्ष में 130 अमेरिकी सांसद, कहा- खत्‍म न करें नियम

H-1B वीजाधारकों के जीवनसाथी को वर्क परमिट देने के पक्ष में 130 अमेरिकी सांसद, कहा- खत्‍म न करें नियम

130 अमेरिकी सांसदों ने ट्रंप प्रशासन से H-1B वीजा धारकों के जीवनसाथी के लिए वर्क ऑथराइजेशन ग्रांट जारी रखने की अपील की

1 of
वाशिंगटन. 130 अमेरिकी सांसदों ने ट्रंप प्रशासन से H-1B वीजा धारकों के जीवनसाथी के लिए वर्क ऑथराइजेशन ग्रांट जारी रखने की अपील की है। उन्‍होंने इस मामले में सेक्रेटरी ऑफ होमलैंड सिक्‍योरिटी क्रिस्‍टजेन नील्‍सन को लेटर लिखा है। लेटर पर रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक दोनों पार्टियों के लॉमेकर्स ने साइन किए। इन सांसदों सांसदों अगुवाई इंडियन-अमेरिकन कांग्रेसवुमन प्रमिला जयपाल कर रही हैं। 

 
ट्रंप प्रशासन पूर्व राष्‍ट्रपति बराक ओबामा के समय के H1-B वीजा धारकों के जीवनसाथी को अमेरिका में काम करने देने के नियम को खत्‍म करने की योजना बना रहा है। यह कदम वर्क परमिट वाले 70,000 से ज्‍यादा H-4 वीजा धारकों पर बुरा प्रभाव डाल सकता है।  H-4 वीजा, H1-B वीजा धारकों के जीवनसाथी को दिया जाता है। बता दें कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप इस नियम को रद्द करने पर औपचारिक फैसला जून में लेने वाले हैं।
 

H-4 वीजा धारकों के काम करने से इकोनॉमी हुई मजबूत 

130 अमेरिकी सांसदों द्वारा की गई अपील के तहत कहा गया कि H-4 वीजा धारकों को काम देने से हमारी इकोनॉमी मजबूत हुई है। वहीं सालों से अमेरिका में रह रहे हजारों लोगों जिनमें ज्‍यादातर महिलाएं हैं, को राहत और इकोनॉमिक सपोर्ट हासिल हुआ है। इनमें से कई लोग अमेरिका में स्‍थायी तौर पर बसने की दिशा में बढ़ रहे हैं। H1-B वीजा धारकों के जीवनसाथी को वर्क ऑथराइजेशन ग्रांट दिए जाने का नियम खत्‍म हर देने से अमेरिकी इंप्‍लॉयर्स और अमेरिकी इकोनॉमी की कॉम्पिटीटिवनेस और H-4 वीजा धारकों और उनके परिवार को नुकसान होगा। इसलिए इस कदम पर फिर से विचार किया जाना चाहिए। 
 

भारत से हैं 94 फीसदी H-4 वीजा धारक

एक ताजा कांग्रेसनल रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका के वर्क ऑथराइजेशन ग्रांट वाले लगभग 93 फीसदी H-4 वीजा धारक भारत से हैं। सांसदों ने यह भी कहा कि  H-4 वीजा धारकों को वर्क परमिट देने से अमेरिकी इंप्‍लॉयर्स को रिक्रूटमेंट और हाइली क्‍वालिफाइड इंप्‍लॉइज को कंपनी में बनाए रखने में मदद मिलती है। इसके अलावा कनाडा और ऑस्‍ट्रेलिया जैसे अन्‍य देशों की तरह पॉलिसी रखने और टैलेंटेड विदेशी नागरिकों को अकार्षित करने की प्रतिस्‍पर्धा में बने रहने में भी यह मददगार है। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट